Daily Archive: April 25, 2017

7th Pay Commission: Committee on Allowances to submit report on April 27

7th Pay Commission: Committee on Allowances to submit report on April 27 upon arrival of Arun Jaitley from Russia?

New Delhi, Apr 24: Central government employees have been waiting for higher allowance since July when the government notified the implementation of the 7th Pay Commission recommendations. The government is waiting for report of the Committee on Allowances on higher allowances under the 7th Pay Commission. The Committee on Allowances may submit its report on April 27 or after that when the Finance Minister Arun Jaitley will return to the country after his visit to US and Russia. There is no official confirmation on when the Committee on Allowances will submit its report.

Finance Minister Arun Jaitley left for US on April 20 to attend the annual Spring meetings of the International Monetary Fund and the World Bank. From US, Arun Jaitley will travel to Moscow for a two-day visit from April 25.

The Finance Minister, who also hold the additional charge of the Defence Ministry, will return to the capital on April 27. It is believed that the Committee on Allowances then submit its report on higher allowances under the 7th Pay Commission. Earlier, sources in the Finance Ministry informed that the report on higher allowances under the 7th Pay Commision was in the final stage and the Committee on Allowances would submit it to the Finance Ministry anytime soon.

According to media reports, Finance Secretary Ashok Lavasa led committee is in the process of preparing notes for it to be taken up by the government. The committee had held a meeting on April 6, which was called as ‘conclusive’ by employees’ unions. A government official had attributed the delay in submission of the report to non-availability of allowance panel members. “I believe that there has been some delay in the finalisation of the report as some allowance panel members were outside the country on an official visit,” he was quoted as saying.

The 7th Pay Commission had recommended abolition of 51 allowances and subsuming 37 others out of 196 allowances.

The government referred the matter of the higher allowances to the Committee on Allowance after the central government employees raised concerns. The basic pay was hiked from January 1, 2016 as per the 7th Pay Commission recommendations, but for last 10 months, the central government employees are still waiting for the higher allowances.

MCD election result 2017: Five things you should know about counting tomorrow

The result of the municipal election 2017 will be declared on April 26. At least two exit polls have indicated that the Bharatiya Janata Party may win the election by a landslide with AAP and Congress struggling for a distant second spot. Before the choice made by Delhi becomes clear, here are five things to know about the counting process that starts early tomorrow.

1. Counting begins: The counting votes polled in 270 wards will start at 8 am on Wednesday. Polling in two other wards – Sarai Pipal Thala and Maujpur – was put off till next month after the death of two candidates.

2. Early trends: Though the result will be declared by the state election commission only after 5 pm, early trends should be available by 11 am. The winner, if there is no fractured mandate, should be clear by 2 pm.

3. Counting venues: Votes will be counted at 35 centres across the city. Of these, 16 will are in north Delhi, 13 in the south and six in east Delhi.

4. Regular updates: Counting updates will be relayed from the centres to the Delhi State Election Commission office located in Kashmere Gate. Large screens installed there will display the updates for the media to disseminate to the public.

5. Security arrangement: Over 90,000 security personnel belonging to Delhi Police, paramilitary forces and the Home Guards will keep a watch at the counting centres. Wednesday will be a dry day.

Summer lips: Here are 5 lip colours that are perfect for the season

Summer is here and as you drag out all the summer dresses and shorts from the back of your closet, it is also the time to stack up on your summer make-up. The season is all about bright colours that pop, and hence we believe that your nail paint and lip colours should also be in tune with the sunshine.
Here are our top-five lip colours to add to the fun of the season.
Emma Stone wears a red lip colour during a ceremony in the forecourt of the TCL Chinese theatre in Hollywood, California.
Reds
Nothing screams glamour the way red does and that is why it makes to the top of our lips. Be it on the red carpet or when it comes to street style, red lips never go out of fashion. The colour goes well with formal attires and is also a perfect fit for casual Fridays.

Electric Orange
If you are tired of classic red shades, this might just end up being your new favourite. Electric orange and tangerines were big on the runway this season and they are vibrant and perfect for the summer.

Pinks
If you are not a fan of red or orange, pinks are you best friends. Right from fuchsia to dusty rose, pink lip colours go with pretty much all the outfits and also make your lips pop.

Purple
Purple lips have been big of late. No, we are not talking about the shade that Aishwarya Rai Bachchan received much flak for on the Cannes red carpet. While that shade might not have gone down too well with many, we are talking of a darker tone. The shade looks stunning especially when worn for formal occasions.

Nude
If you are someone who likes subtle shades, nudes are your go-to colours. The colour complements all skin tones and with this, you will also have a chance to play up your eyes.

रेलवे ट्रेनों में AC-2 कोच करेगा बंद , AC-3 बढ़ें गे: फ्लैक्सी फेयर सिस्टम लिया जा सकता है वापस

रेलवे ट्रेनों में AC-2 कोच करेगा बंद , AC-3 बढ़ेंगे: फ्लैक्सी फेयर सिस्टम लिया जा सकता है वापस

नई दिल्ली : नई दिल्ली.रेलवे सभी तरह की ट्रेनों से AC-2 कोच धीरे-धीरे खत्म कर देगा। इनकी जगह AC-3 कोच बढ़ाए जाएंगे। यही नहीं, नॉन-एसी स्लीपर कोच की संख्या घटाकर भी AC-3 कोच बढ़ाए जा सकते हैं। कम रिस्पॉन्स के चलते 143 ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर सिस्टम को भी वापस लिया जा सकता है। इसकी जगह सभी ट्रेनों के बेसिक फेयर में 10 से 15% इजाफा किया जा सकता है।

ट्रेनों में AC-III कोच ही बढ़ेंगे…

– पत्रकार ने रेलवे बोर्ड के आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया कि रेलवे की 13 हजार पैसेंजर ट्रेनों में धीरे-धीरे AC-2 कोच कम होंगे और फिर इन्हें खत्म कर दिया जाएगा। जिन पैसेंजर ट्रेनों में अभी 20 या 22 कोच लगते हैं, उन्हें बढ़ाकर 24 करने का फैसला हुआ है। ऐसी ट्रेनों में जो एक्स्ट्रा कोच बढ़ाए जाएंगे, वो AC-3 के ही रहेंगे।

रेलवे ने क्यों लिया ऐसा फैसला?

– रेलवे के सूत्रों ने एजेंसी को बताया कि AC-3 के कोच से ऑपरेशनल कॉस्ट निकल रही है। जो पैसेंजर ट्रेनें पूरी तरह से AC-3 हैं, उनसे रेलवे को प्रॉफिट भी हो रहा है। रेलवे की अब कोशिश रहेगी कि ट्रेनों में नॉन-एसी स्लीपर कोच भी कम करें और उनकी जगह AC-3 के डिब्बे बढ़ाएं जाएं।

दावा: स्लीपर के 40% यात्री एसी-3 में सफर करना चाहते हैं

– रेलवे का तर्क है कि एसी-2 के लिए उसी समय मांग होती है। जब एसी-3 में जगह नहीं होती।

– स्लीपर में चलने वाले करीब 30-40% यात्री अब एसी-3 का सफर चाहने लगे हैं।

– एसी-2 के मुकाबले एसी-3 में 26 पैसेंजर ज्यादा आएंगे। इससे रेलवे को भीड़ का दबाव कम करने में मदद मिलेगी।

– इससे स्लीपर के पैसेंजर एसी-3 में आएंगे। जिससे रेलवे की कमाई भी बढ़ेगी।

(जल्द ही ट्रेन लेट होने की सूचना SMS पर दी जाएगी)

– मंथली सीजनल टिकट का किराया भी बढ़ाया जा सकता है। जल्दी ही टिकट कैंसल करने के नियमों में भी बदलाव किया जाएगा।

(– ट्रेन लेट होने पर पैसेंजर्स को इसकी जानकारी एसएमएस पर दी जाएगी।)

(– चार दर्जन से अधिक ट्रेनों की पहचान कर उन्हें समय से चलाने, उन्हें अप टू टाइम बनाने को लेकर भी कदम उठाए जाएंगे।)

– रेलवे आगे चलकर स्लीपर कोच की संख्या भी कम कर सकती है।
*******************************
फ्लैक्सी फेयर का क्या होगा?

– राजधानी, शताब्दी, दुरंतो ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर सिस्टम का भी रेलवे रिव्यू कर रहा है। इस सिस्टम को बंद करने और इसके बदले में ऑप्शनल सिस्टम लाने पर सोचा जा रहा है। यह भी सोचा जा रहा है कि सभी ट्रेनों के बेसिक फेयर में 10% से 15% का इजाफा किया जाए। मंथली सीजन टिकटों के रेट भी बढ़ाए जाएं।

क्या है फ्लैक्सी फेयर?

– फ्लैक्सी फेयर यानी कम होती सीटों के साथ बढ़ता किराया। पिछले साल सितंबर में रेलवे ने एविएशन सेक्टर की तर्ज पर इसकी शुरुआत की थी। 163 साल में पहली बार ट्रेनों में ऐसा सिस्टम शुरू हुआ था।

– 54 दुरंतो, 42 राजधानी और 46 शताब्दी एक्सप्रेस में यह लागू किया गया था। बीते दिसंबर में जब फुल AC हमसफर ट्रेन की शुरुआत हुई तो उसमें भी फ्लैक्सी फेयर सिस्टम लागू किया गया। इस तरह अभी कुल 143 ट्रेनों में यह सिस्टम है।

– उदाहरण के तौर पर राजधानी एक्सप्रेस की बात करें तो इसमें हर 10% सीटें बुक होने पर बेसिक फेयर 10% बढ़ता है। 40% सीटें बुक होने तक किराया 10%-10% बढ़ता है। 40% सीटों के बाद किराया डेढ़ गुना ही लगता है।

क्यों फ्लॉप हो रहा है ये सिस्टम?फेस्टिव सीजन में प्रमुख ट्रेनों में 6 हजार बर्थ खाली रहीं।

– प्रीमियम ट्रेनों का सफर महंगा होने से लोग ऑप्शन के तौर पर बसों या एयर ट्रेवल का ऑप्शन चुन रहे हैं। उदहारण के लिए चंडीगढ़ से नई दिल्ली के बीच चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस में पैसेंजर ऑक्यूपेंसी 30% तक कम हो गई है। लोग बस और एयर ट्रेवल प्रिफर कर रहे हैं।

– शताब्दी एक्सप्रेस में 12 कोच होते हैं। एक कोच में 78 सीटें होती हैं। इस हिसाब से एक शताब्दी में करीब 936 सीटें होती हैं। 90 सीटें बुक होने के बाद ही फ्लैक्सी फेयर शुरू हो जाता है।

– रेलवे के मुताबिक, पिछले साल 9 सितंबर से 31 अक्टूबर के बीच राजधानी, दुरंतो और शताब्दी एक्सप्रेस में 5 हजार 871 बर्थ खाली रही थीं। फ्लैक्सी फेयर सिस्टम को ही इसकी वजह माना गया था।