New Delhi Latest News

बैंक यूनियंस और इंडियन बैंक्स एशोसिएशन की केन्द्रीय श्रम आयुकत द्वारा बुलाई वार्ता फे ल। 22 अगस्त को बैंकों में हड़ताल।

*बैंक यूनियंस और इंडियन बैंक्स एशोसिएशन की केन्द्रीय श्रम आयुकत द्वारा बुलाई वार्ता फेल। 22 अगस्त को बैंकों में हड़ताल। सरकार इस हड़ताल को टाल सकती थी*

बैंक यूनियंस के फोरम यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस की 22 अगस्त की प्रस्तावित हड़ताल के लिए केंद्रीय श्रम आयुक्त ने बैंक यूनियंस ओर इंडियन बैंक्स एसोसिएशन को वार्ता के लिए बुलाया था। लेकिन आई बी ए के द्वारा कोई भी संतोषजनक उत्तर ना मिलने के कारण बैंक यूनियंस 22अगस्त को हड़ताल पर जाने को मजबूर हैं।

यूनियंस ने 3 अगस्त को हड़ताल का नोटिस दिया था। यदि सरकार गंभीर होती तो बहुत पहले ही यूनियंस के साथ मीटिंग करके हड़ताल को टाल सकती थी लेकिन केंद्रीय श्रम आयुक्त ने हड़ताल से केवल 4 दिन पूर्व वार्ता में लिए बुलाया और उसमे भी सरकार की तरफ से कोई सनतोष जनक उत्तर ना मिलने के कारण बैंक कर्मचारी 22 अगस्त को हड़ताल पर जाने के लिय मजबूर हैं।

इस हड़ताल का आहवाहन बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों के संयुक्त संघठन , यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने किया है। इसमे 5 कर्मचारियों के और 4 अधिकारी संगठन शामिल हैं और इन संगठनों के 10 लाख बैंक कर्मचारी अधिकारी शामिल होंगे।

हड़ताल की प्रमुख मांगें हैं :

* बैंकों का निजीकरण ना किया जाये।

* बैंको का मर्जर ना किया जाये।

* बैंकों में सभी पदों पर भर्ती की जाये ।

* बैंकों में अनुकंपा आधार पर नियुक्तियां की जाएं।

* नोटबंदि के दौरान किये गये अतिरिक्त काम का ओवरटाइम दिया जाये ।

यदि सरकार इन मांगों को नही मानती तो आने वाले दिनों में और भी हड़ताल हो सकती हैं।

Bank Strike on August 22, Services to be Hit

New Delhi, August 21: Banking services at all nationalized banks may take a hit on Tuesday as the Bank unions have called for a nationwide strike on August 22. After talks with the Central government regarding proposed reforms failed, the United Forum of Bank Unions (UFBU) has now given the call for the strike on August 22 where people are believed to protest against the government’s move of consolidation besides a host of other demands. It has been reported that most banks have informed their customers that services are likely to bit hit as banks would press their demands to stop privatisation of public sector banks. The strike would potentially be affecting banking services like cheque clearances, cash deposits, and withdrawal at branches and other facilities.

The UFBU in the statement said that nearly 10 lakh employees and officers of various banks all over the country would observe the strike.  The decision of a nationwide protest was taken to express solidarity with the nationwide strike call given by the confederation to protest the anti-people policies of the government. Dilip Singh Chauhan, General Secretary of the Bank of India Officers Association, said an umbrella group named United Forum of Bank Unions had been formed for Tuesday’s protests.

Article 35A file goes missing in #Delhi

New Delhi: A key Kashmir file justifying the insertion of Article 35A into the Indian Constitution has gone missing from the high security vaults of North Block in New Delhi.
The incident comes at a time when the Indian Supreme Court is hearing a petition by an RSS-backed NGO seeking the abrogation of the Article, which bars outsiders from acquiring land in Kashmir. “A 63-year-old file containing legal opinion on Article 35A has vanished from North Block’s high-security vaults at a time the provision, which grants special rights and privileges to permanent residents of Kashmir, faces a legal challenge to its constitutionality,” reported The Telegraph newspaper. “Our employees are frantically searching for the file, which is crucial to the case as we have to convey our stand in the Supreme Court at the next hearing on August 29,” a senior Indian home ministry official said.
He said the file had disappeared from the Ministry’s legal and administrative records section, perhaps during the Ministry’s Swachh Bharat campaign between June 22 and 26 in 2015 when it weeded out hundreds of old files.