Daily Archive: February 15, 2019

भारतीय खुफिया एजेंसियां संदेह के कटघरे म ें.

अनिल निगम

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले ने पूरे देश को स्‍तब्‍ध कर दिया है। हमले में 40 जवानों की मौत हो गई और इससे अधिक संख्‍या में घायल हो गए। यह हमला 18 सितंबर 2016 को उरी सेक्टर में हुए हमले से भी बड़ा है। इस हमले ने यह साबित कर दिया है कि हमारी सुरक्षा व्‍यवस्‍था में भारी खामी है और आतंकी संगठन हमारे सुरक्षा चक्र को बहुत आसानी से भेद सकते हैं। निस्‍संदेह, कश्‍मीर में आतंकी संगठनों को संरक्षण देने का काम पड़ोसी देश पाकिस्‍तान करता है, लेकिन जिस तरीके से साढ़े तीन सौ किलोग्राम विस्‍फोटक सामग्री लिए एक कार ने सुरक्षा चक्र को भेदते हुए हमारे जवानों को खाक कर दिया, हमारी आंतरिक सुरक्षा व्‍यवस्‍था पर बहुत बड़ा प्रश्‍न चिह्न लग गया है। यही नहीं, देश की सभी खुफिया एजेंसियां भी संदेह के कटघरे में आ गई है।

वास्‍तव में यह जम्मू कश्मीर के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला है। विस्‍फोट इतना ताकतवर था कि मौके पर जवानों के चीथड़े उड़ गए और मशीनों के पुर्ज़ें इधर-उधर बिखर गए। इसके पहले 18 सितंबर 2016 को जम्मू और कश्मीर के उरी सेक्टर में एलओसी के नजदीक भारतीय सेना के स्थानीय मुख्यालय पर हमला हुआ था जिसमें 18 जवान शहीद हो गए थे। उसके बाद भारतीय सेना ने सीमा पार पाकिस्‍तान में सर्जिकल स्‍ट्राइक कर कई आतंकी शिवरों को नष्‍ट करते हुए 38 आतंकियों को ढेर कर दिया था।
पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत सरकार का रुख बेहद सख्त है। पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया को दिल्ली बुलाया गया है। भारत ने पाकिस्तान को दिया गया सर्वाधिक वरीयता वाले राष्ट्र का दर्जा वापस ले लिया है। विदेश सचिव विजय गोखले ने पाकिस्तान के भारत में उच्चायुक्त सोहेल मोहम्मद को तलबकर फटकार लगाई है। इसके अलावा विदेश सचिव ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त से वहां की जमीन से चल रहे आतंकी संगठनों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने को कहा है। भारत ने इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान की जमीन से चल रहे आतंकी संगठनों पर लगाया है। इसके अलावा उसने इस मुद्दे को जी 5+1 देशों के समूह, संयुक्त राष्ट्र संघ जैसे सभी अंतरराष्‍ट्रीय प्‍लेटफार्मों पर पाकिस्तान को घेरने की तैयारी कर ली है।

इस बात में भी कोई दोराय नहीं है कि पाकिस्तान हमेशा से आतंकियों की पनाहगार रहा है। इसी का नतीजा है कि पाकिस्तान सीरिया से भी ज्यादा खतरनाक हो गया है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और स्ट्रैटजिक फॉरसाइट ग्रुप द्वारा ‘ह्यूमैनिटी एट रिस्क- ग्लोबल टेरर थ्रेट इंडिकेंट’ प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया था कि आतंक की वजह से सीरिया के मुकाबले पाकिस्तान से मानवता को तीन गुना अधिक खतरा है। दूसरी ओर, पाकिस्तान आतंकियों को पनाह देने के मामले में अव्‍वल रहा है।

यहां पर सबसे बड़ा सवाल यह है कि जिस हाईवे में चप्‍पे-चप्‍पे पर सुरक्षा कर्मचारी तैनात रहते हैं, वहां पर अचानक विस्‍फोटक सामग्री से लदी गाड़ी कैसे और कहां से आ गई? आतंकवादियों को किस तरीके से यह सूचना मिली कि इतनी बड़ी संख्‍या में सुरक्षा कर्मचारी एक साथ जा रहे हैं? आतंकी हमलों की पूर्व सूचना एकत्र कर लेनी वाली खुफिया एजेंसियां यह क्‍यों नहीं पता लगा पाईं कि यहां आत्‍मघाती आतंकी हमला हो सकता है? हमारे देश के नीति नियंताओं को इस दिशा में मंथन करना चाहिए कि खुफिया एजेंसियां सही समय पर इसका पता क्‍यों नहीं लगा पाईं? साथ ही यह भी देखना चाहिए कि हमारी खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों के अंदर भितरघाती और भेदिया तो पैदा नहीं हो गए, जो हमारी सुरक्षा संबंधी गुप्‍त सूचनाओं को लीक कर रहे हैं? ये ऐसे सवाल हैं जिन पर गंभीरतापूर्वक चिंतन और मंथन करने की आवश्‍यकता है ताकि पूरे देश को चैन की नींद से सुलाने वाले सैनिकों और अर्ध सैनिक बलों को इस तरह के घात और प्रतिघात में अपनी जानें न गंवानी पड़ें।

Union Minister @irvpaswan administers #Swachhta pledge to all officials and employees of the Ministry marking celebration of #SwachhtaPakhwada from 16th to 28th February 2019

Union Minister administers pledge to all officials and employees of the Ministry marking celebration of from 16th to 28th February 2019

Sh. D. S. Mishra, @Secretary_MoHUA at Swachhata Excellence Awards 2019 in New Delhi.

Sh. D. S. Mishra, at Swachhata Excellence Awards 2019 in New Delhi. The awards are an effort to recognize & reward the performances of ALFs, CLFs, women SHGs and ULBs in promoting sanitation based livelihoods & ensuring clean neighbourhoods.

Pulwama Attack : India will deal with terrorism unitedly, says Manmohan Singh

Pulwama Attack : India will deal with terrorism unitedly, says Manmohan Singh

India will never compromise with terrorist forces and will deal with the menace unitedly, former Prime Minister Manmohan Singh said on Friday, condemning the Pulwama terror strike.

The priority is to convey to families of those who have been killed and those seriously injured that ‘we are with them in condemning this act of terrorism’, Singh said at a press conference along with Congress president Rahul Gandhi, and senior leaders Ghulam Nabi Azad and A K Antony.

‘We shall never compromise with terrorist forces. Whatever the country requires, we will work together as one united nation to deal with this menace of terrorism,’ he said.

Singh said terrorism is a scourge and was something with which India can never compromise.

‘As the Congress president said, today is not a day to raise contentious issues. Our role today is to convey to our soldiers, their families, our heartfelt condolences.We will do all that is necessary to keep this country united in support of anti-terrorist measures,’ he said.

Dailyhunt