Daily Archive: December 7, 2018

Food and Agriculture organisation (FAO) Council approves India’s proposal to observe an International Year of Millets in 2023

FAO Council also approves India’s membership to the Executive Board of the United Nations World Food Program (WFP) for 2020 and 2021

Union Minister of Agriculture and Farmers’ Welfare Shri Radha Mohan Singh has said that the 160th session of the Food and Agriculture Organisation (FAO) Council, currently underway in Rome, approved India’s proposal to observe an International Year of Millets in 2023. On behalf of all countrymen the minister conveyed his gratitude to the countries who voiced their support. He added that this will enhance global awareness to bring back these nutri-cereals to the plate, for food and nutrition security and hence increase production for resilience to challenges posed globally by climate change.

The Minister said that in the Modi regime, India’s prowess in agriculture diplomacy has grown. This international endorsement comes in the backdrop of India celebrating 2018 as the National Year of Millets for promoting cultivation and consumption of these nutri-cereals. This is further supported by increase in Minimum Support Prices (MSP) of millets. Millets consists of Jowar, Bajra, Ragi and minor millets together termed as nutri-cereals. The MSP of Jowar has been increased to Rs 2450 per quintal from Rs 1725, Bajra to Rs 1950 from Rs 1425 and Ragi to Rs 2897 from Rs 1900 per quintal from 2018-19. Through the Department of Food and Public Distribution, State Governments are allowed to procure jowar, bajra, maize and ragi from farmers at MSP.

In addition, the FAO Council also approved India’s membership to the Executive Board of the United Nations World Food Program (WFP) for 2020 and 2021 for which the Minister expressed his deepest gratitude to other member countries for their support.

*****

Young Doctors need to uphold ethics and treat every patient with compassion and empathy: Vice President

Make quality healthcare accessible and affordable;

Curriculum in medical education needs to be constantly upgraded;

Bridge urban-rural divide in providing state-of-the-art healthcare services;

Addresses 46th Annual Convocation of All India Institute of Medical Sciences

The Vice President of India, Shri M. Venkaiah Naidu has said that the young doctors to bear in mind the need to uphold ethics and treat every patient with compassion and empathy, irrespective of his or her financial background. Addressing the 46th Annual Convocation of All India Institute of Medical Sciences (AIIMS), here today, he said that the All India Institute of Medical Sciences is an institution which has made the nation proud and achieved excellence in patient care, teaching and research.

The Vice President said that medical education has undergone a paradigm shift from class room based didactic teaching to self directed small group learning using principles of adult learning. The traditional methods of learning via imparting knowledge have evolved into competency-based learning to ensure that trainees acquire all essential skills before licensure, he added.

Shri Naidu said that the curriculum in medical education needs to be constantly upgraded in tune with the latest advancements. I am sure that the curriculum developed at AIIMS can be adopted by other AIIMS like institutions and other medical colleges, he added.

Saying multidisciplinary teams are the need of the hour, the Vice President said that forging research coalitions with different department of AIIMS, as well as reaching out to other centres of excellence and researchers in the country should be given a priority.

The Vice President said that we have to make quality healthcare accessible and affordable. He further said that there is also a significant urban-rural divide and referred a report of PWC points out “India has only 1.1 beds per 1000 population in India compared to the world average of 2.7. 70% of India’s healthcare infrastructure is in the top 20 cities.” We have to bridge this urban-rural divide in providing state-of-the-art healthcare services, he added.

Shri Naidu said that we have a paradoxical situation when it comes to health sector. On the one hand, India is making rapid strides in medical tourism with people from other countries coming to our country for a range of treatments from liver transplant to knee replacement, he said. However, the same treatment is out of reach for many Indians and we need to overcome this paradoxical situation by ensuring that treatment is affordable for all Indians, he further said. An important step in this direction will be to promote manufacturing of state-of-the-art devices and equipment in the country, particularly under the ‘Make in India’ programme and such a move will not only save precious foreign exchange for us but also bring down the costs of the devices, he added.

The Vice President said that only the doctors can provide the healing touch to the ailing humanity and they only can make the difference between life and death. Only you can add life to people’s years, he said. People admire actors but they adore doctors and doctors must treat their profession as a mission, he added.

Shri Naidu complimented the Director, the faculty members and all other staff members for making AIIMS an institution of excellence. I hope our Bharat will become Ayushman and every citizen will find the healthcare facilities more responsive, affordable ethically sound and qualitatively among the best in the world, he added.

The Vice President presented the Lifetime Achievement Awards to Dr. A. K. Saraya, Dr. Samira Nundy, Dr. Kamal Buckshee and Dr. Gomathy Gopinath (in absence) on this occasion. He also presented Gold Medals and Certificates to 31 Medical Students who have achieved highest merit.

The Union Minister for Health & Family Welfare and the President of AIIMS, Shri J.P. Nadda, the Director of AIIMS, Prof. Randeep Guleria and other dignitaries were present on the occasion.

Following is the text of Vice President’s address:

“I am indeed delighted to deliver the 46th convocation address at AIIMS, New Delhi, one of the highly reputed medical institutions in the country.

First of all, I would like to convey my heartiest congratulations to the students who have received their academic degrees, awards and recognitions today.

Dear students,

Today you all begin a new journey in your professional career – a journey that will enable you to use your skills and knowledge in a career you have chosen to pursue.

You have entered this premier institution by qualifying in one of the toughest competitions in the country.

I am sure you have pursued the academic activities with sincerity and great dedication and, as a result, you are receiving the credentials today as a fully qualified medical professional.

Your faculty members have contributed in imparting education and skills of high standards to practice medicine with professional ethics.

It is definitely a moment of pride not only for you but for your teachers and parents.

The All India Institute of Medical Sciences is an institution which has made the nation proud and achieved excellence in patient care, teaching and research.

It is providing services to all sections of the society and has established itself as an institution of international repute.

This has been possible due to the stupendous efforts and hard work of the faculty, resident doctors and staff over many years.

The most important challenge in medical education, like education in general, today, is to provide quality education at affordable cost.

AIIMS has been established as an autonomous body by the special act of Parliament to make this possible.

However, one such institution is not enough. This is why the government is now establishing 8 such institutions.

We all know that there is acute shortage of skills and human resources in the health sector at all levels—from physicians to paramedics. Hence, the Government of India has planned for rapid expansion of the medical education facilities in the entire country by establishing new AIIMS-like institutions and medical college in the states.

Dear students and faculty members,

We are, as a nation, passing through a transformational phase. As the recent report of NITI Ayog noted:

“India has achieved significant economic growth over the past decades, but the progress in health has not been commensurate. Despite notable gains in improving life expectancy, reducing fertility, maternal and child mortality, and addressing other health priorities, the rates of improvement have been insufficient, falling short on several national and global targets”.

In addition, there are wide variations across States in their health outcomes and systems performance.

In the reference year 2015-16 among larger States, the Index score for overall performance ranged widely between 33.69 in Uttar Pradesh to 76.55 in Kerala.

What is a worrying is that about one-third of the States have shown a decline in their Health Indices.

India is faced currently with double burden of disease.

On the one hand, we are still grappling with dengue, swine flu, chikangunya, malaria and HIV. On the other hand, the Non-Communicable Diseases (NCDs) are taking a heavy toll. Cardiovascular diseases, respiratory diseases and diabetes are contributing to substantial chunk of total deaths in India.

Not only in terms of expanded access to medical education but also in terms of quality, much more needs to be done.

Medical education has undergone a paradigm shift from class room based didactic teaching to self directed small group learning using principles of adult learning. The traditional methods of learning via imparting knowledge have evolved into competency-based learning to ensure that trainees acquire all essential skills before licensure.

The curriculum in medical education needs to be constantly upgraded in tune with the latest advancements. I am sure that the curriculum developed at AIIMS can be adopted by other AIIMS like institutions and other medical colleges.

I am happy to learn that AIIMS has established Skill E Learning and Telemedicine facility and will be extending this facility to connect the remotest areas and medical institutions of the country.

I am, indeed, happy that research is not a routine activity but a mission at AIIMS. Indeed, the research conducted at AIIMS has significantly contributed in improving the quality of teaching and patient care, apart from helping formulate national policies on various issues.

I would like AIIMS to expand research priorities to look at wider challenges of basic, translational, clinical and public health research.

Multidisciplinary teams are the need of the hour. Forging research coalitions with different department of AIIMS, as well as reaching out to other centres of excellence and researchers in the country should be given a priority.

I am happy to learn that AIIMS New Delhi has established collaborations with IIT Delhi, IIT Kharagpur and many international universities.

A major challenge we have to overcome is the need to provide quality health care at all levels. Recent studies reveal that India still accounts for 16% of the global share of maternal deaths and 27% of global new born deaths. Deaths continue to occur due to communicable diseases, with 22% of global TB incidence in India. India’s non-communicable disease (NCD) burden continues to expand and is responsible for around 60% of deaths in India.

We have to make quality healthcare affordable.

It is estimated that the out of pocket expenditure constitutes more than 60% of all health expenses, a major drawback in a country like India where a large segment of the population is poor. Approximately 63 million people fall into poverty each year due to lack of financial protection for their healthcare needs.

There is also a significant urban-rural divide. As a report of PWC points out “India has only 1.1 beds per 1000 population in India compared to the world average of 2.7. 70% of India’s healthcare infrastructure is in the top 20 cities.”

We have to bridge this urban-rural divide in providing state-of-the-art healthcare services.

Highest priority has to be accorded to strengthening primary healthcare and tertiary care. We need to increase the number of doctors available at health care centres residing in rural area. We must incentivize rural doctors.

It is a matter of concern that the absence of qualified medical practitioners is making people to go to quacks in rural areas.

I also feel that in the present times of specialization and super specialization, greater focus needs to be paid to the disciplines of family and community medicine. This will help in providing comprehensive health care for people of all ages in families and communities.

We have a paradoxical situation when it comes to health sector. On the one hand, India is making rapid strides in medical tourism with people from other countries coming to our country for a range of treatments from liver transplant to knee replacement. However, the same treatment is out of reach for many Indians. We need to overcome this paradoxical situation by ensuring that treatment is affordable for all Indians.

An important step in this direction will be to promote manufacturing of state-of-the-art devices and equipment in the country, particularly under the ‘Make in India’ programme. Such a move will not only save precious foreign exchange for us but also bring down the costs of the devices.

With a majority of the population, particularly from poor and low middle classes meeting most of the health expenditure on their own, the Government has launched ‘Ayushman Bharat Yojana’ to cover more than 10 crore vulnerable families by providing a coverage of Rs. 5 lakh per family per year. This will be a game-changer in terms of accessing healthcare services in India.

I would also like all the young doctors to bear in mind the need to uphold ethics and treat every patient with compassion and empathy, irrespective of his or her financial background.

Only you can provide the healing touch to the ailing humanity. Only you can make the difference between life and death. Only you can add life to people’s years.

That’s the trust people have in the medical professionals. That’s the trust which must be preserved and enhanced.

Finally, I would like to compliment the Director and the faculty members and also all other staff members for making this an institution of excellence. Please continue your efforts, despite formidable challenges.

I am sure the government will continue to create congenial conditions for your success. I hope our Bharat will become Ayushman and every citizen will find the healthcare facilities more responsive, affordable ethically sound and qualitatively among the best in the world.

I am sure you will join me in sharing our ancient India’s common goal of a world where all people enjoy a happy life, free from disease:

Sarve Bhavantu

Sukhinah
Sarve Santu Nir-Aamayaah

JAI HIND!”

Vice President Addresses 46th Annual Convocation of All India Institute of Medical Sciences (AIIMS)

Ensuring the highest standards of medical education is a top priority of the government: J P Nadda

The Hon’ble Vice President of India, Shri M Venkaiah Naidu today addressed the 46th Annual Convocation of All India Institute of Medical Sciences (AIIMS) in presence of Shri J P Nadda, Union Minister of Health and Family Welfare.

Addressing the participants, the Vice President of India stated the Government has planned for rapid expansion of the medical education facilities in the entire country by establishing new AIIMS-like institutions and medical college in the states. “India is making rapid strides in medical tourism with people from other countries coming to our country for a range of treatments from liver transplant to knee replacement, he said.

The Vice President said that only the doctors can provide the healing touch to the ailing humanity and they only can make the difference between life and death. Only you can add life to people’s years, he said. The Vice President presented the Lifetime Achievement Awards to Dr. A. K. Saraya, Dr. Samira Nundy, Dr. Kamal Buckshee and Dr. Gomathy Gopinath (in absence) on this occasion. He also presented Gold Medals and Certificates to 31 Medical Students who have achieved highest merit.

Union Health Minister Shri J P Nadda congratulated all the students and stated that ensuring the highest standards of medical education is a top priority for the government. “We have now planned for a rapid expansion of medical education in the country,” he said. Shri Nadda stated that the Government has undertaken many initiatives to improve medical education in the country. He said that the government has increased the age of retirement of doctors to 65years and is setting up of more medical and nursing schools, multi-skilling of doctors to overcome the shortage of specialists, he added.

Shri Nadda further said that the Phase-I of National Cancer Institute (NCI), hospital and residential complex at Jhajjar AIIMS with Project Value of about Rs. 2035 Crores shall be made functional by next month. “Since 2014-15, the Ministry has granted permission for establishment of 118 new medical colleges including 54 in the Government sector. The country has now 502 medical colleges with more than 70,000 MBBS seats. We have been able to add over 18,600 UG seats and 12,000 PG seats,’ Shri Nadda added. He further said that the Government has taken various measures to facilitate the setting up of new colleges. “The norms for medical colleges have been rationalised. The country has now around 46,000 PG seats including DNB & CPS,” he mentioned.

In his address, Shri Nadda said, that under Ayushman Bharat, Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana (PMJAY) programme, the government is providing assured universal healthcare to over 50 crore people from the poorest, vulnerable and marginalised sections. “I am happy to share that since its launch more than 4.5 lakh people have already availed of benefits of PMJAY, the world’s largest public health programs,” Shri Nadda said.

The Union Health Minister further said that AIIMS has made enormous contributions to patient care, research and education. The brand of AIIMS is recognized and respected world over. AIIMS has been making multifaceted contributions with distinctions, by training hundreds of graduates, postgraduate, in service trainee doctors and nurses; research in priority areas and support to the national programs and other organizations and institutions, he elaborated.

Shri J P Nadda, also awarded degrees to 671 graduating students.

Also present at the function were Prof. Randeep Guleria, Director, AIIMS New Delhi, Prof. V.K. Bahl, Dean (Academics), AIIMS New Delhi, Dr. Sanjeev Lalwani, Registrar, AIIMS New Delhi along with faculty members, scientists and the students.

Shri Thaawarchand Gehlot unveils life size painting of Dr. B. R. Ambedkar at DAIC, New Delhi

In order to mark the “Mahaparinirvan Diwas” of Dr. B. R. Ambedkar on 06thDecember, 2018, the Union Minister of Social Justice and Empowerment Shri Thaawarchand Gehlot and the Minister of State for Social Justice and Empowerment, Shri Vijay Sampla unveiled a life size painting of Dr. B. R. Ambedkar at Dr. Ambedkar International Centre (DAIC), 15 Janpath, New Delhi.

image001FNJH.jpg

NITI Aayog Launches Global Hackathon On Artificial Intelligence

NITI Aayog Launches Global Hackathon On Artificial Intelligence

Posted On: 07 DEC 2018 2:38PM by PIB Delhi

Partnering with Perlin, a Singapore-based AI start-up for the four- month hackathon

With the vision to further expand the idea of‘Artificial Intelligence, AI for All’ articulated in the National AI Strategy, NITI Aayog organises hackathons to source sustainable, innovative and technologically-enabled solutions to address various challenges in the development space.

Taking the initiative forward, NITI Aayog is now partnering with Perlin – a Singapore-based AI start up – to launch the ‘AI 4 All Global Hackathon’, and is inviting developers, students, start-ups and companies to develop AI applications to make significant positive social and economic impact for India.

The challenge question seeks to develop solutions inDistributed Computing and Privacy Preserving techniques, such as multi-party computation, in AI. The objective of this hackathon is to promote awareness and subsequently develop solutions that deliver the twin benefit of efficient computing to address the infrastructure challenges, while also not compromising on privacy of data for training AI algorithms.

NITI Aayog organized its first hackathon, ‘MoveHack’ in August, on the sidelines of the Global Mobility Summit 2018, with the aim of garnering cutting-edge mobility applications. Over 2,000 submissions were received out of which the Top 10 teams were awarded at the summit.

“The AI for All Hackathon underscores the commitment of NITI Aayog to supporting meaningful social, economic and technological advancements directed at making people’s lives better,” said Amitabh Kant, CEO of NITI Aayog, “we believe India is ideally positioned as a thought-leader and regional economic power to help bring the benefits of innovation in AI and distributed computing to communities in developing countries around the world.”

The ‘AI 4 All Global Hackathon’ was announced at the AI conference organized by NITI Aayog, in partnership with the ORF, held in Mumbai in November 2018.

The hackathon will be run two stages with Stage One ending 15 January 2019 and Stage Two, which will only include shortlisted participants from the previous stage, will conclude on 15 March 2019

The jury shall comprise of the leaders from the technology and policy ecosystem, namely, Mr Amitabh Kant, CEO, NITI Aayog; Mr Michael Witbrock, Head at AI Foundations Lab IBM; Mr AnandamoyRoychowdhary, Director of Technology at Sequoia Capital; Mr Prahbakar Reddy, Partner at Accel Partners; Professor AnupMalani, Co-founder & Faculty Director of International Innovation Corps; Mr Ery Punta Hendraswara, Innovation Management at Telkom; and Mr Dorjee Sun, CEO of Perlin.

The first stage will invite ideas for use cases of multi-party computation in areas such as Healthcare, Education, Agriculture, Urbanization, Financial Inclusion. The second stage will call for these ideas to be matured and developed, with a focus on privacy preserving AI and distributed computing.

Winners will share in a prize pool worth USD $50,000 in both cash and non-cash rewards. Participants will also get mentorship and support from the hackathon co-sponsors, including the opportunity to scale and implement their AI applications.

Registrations are presently open for the ‘AI 4 All Global Hackathon’ website at: https://www.perlin.net/hackathon

Text of PM’s address at Jagran Forum on the occasion of 75th anniversary celebration of Dainik Jagran

यहां मौजूद सभी वरिष्‍ठ महानुभाव, देवियों और सज्‍जनों।

सबसे पहले मैं दैनिक जागरण के हर पाठक को, अखबार के प्रकाशन और अखबार को घर-घर तक पहुंचाने के कार्य से जुड़े हर व्‍यक्ति को, विशेषकर हॉकर बंधुओं को आपकी संपादकीय टीम को हीरक जंयती पर बहुत-बहुत बधाई देता हूं, बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

बीते 75 वर्ष से आप निरंतर देश के करोड़ों लोगों का सूचना और सरोकार से जोड़े हुए हैं। देश के पुनर्निर्माण में दैनिक जागरण ने महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है। देश को जागरूक करने में आप अहम रोल अदा करते रहे हैं। भारत छोड़ो आंदोलन की पृष्‍ठभूमि में जो कार्य आपने शुरू किया, वो आज नए भारत की नई उम्‍मीदों, नए संकल्‍पों और नए संस्‍कारों को आगे बढ़ाने में सहयोग कर रहा है। मैं दैनिक जागरण पढ़ने वालों में से एक हूं। शायद शुरुआत वहीं से होती है। अपने अनुभव के आधार पर मैं कह सकता हूं कि बीते दशकों में दैनिक जागरण ने देश और समाज में बदलाव लाने की मुहिम को शक्ति दी है।

बीते चार वर्षों में आपके समूह और देश के तमाम मीडिया संस्‍थानों ने राष्‍ट्र निर्माण के मजबूत स्‍तंभ के तौर पर अपने दायित्‍व का बखूबी निर्वहन किया है। चाहे वो बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान हो, चाहे स्‍वच्‍छ भारत अभियान हो। ये अगर जन-आदोंलन बने हैं। तो इसमें मीडिया की भी एक सकारात्‍मक भूमिका रही है। दैनिक जागरण भी इसमें अपना प्रभावी योगदान देने के लिए हमेशा आगे रहा है। हाल में ही वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के माध्‍यम से, मुझे आप सभी से संवाद करने का अवसर मिला था। तब मुझे बताया गया था कि स्‍वच्‍छता के लिए कैसे आप सभी पूरे समर्पण से कार्य कर रहे हैं।

साथियों, समाज में मीडिया का ये रोल आने वाले समय में और भी महत्‍वपूर्ण होने वाला है। आज डिजिटल क्रांति ने मीडिया को, अखबारों को और विस्‍तार दिया है और मेरा मानना है कि नया मीडिया नए भारत की नींव को और ताकत देगा।

साथियों, नए भारत की जब भी हम बात करते हैं। तो minimum government maximum governance और सबका साथ सबका विकासइसके मूल में, इसी मूलमंत्र को लेकर के हम बात करते हैं। हम एक ऐसी व्‍यवस्‍था की बात करते हैं जो जनभागीदारी से योजना का निर्माण भी हो और जनभागीदारी से ही उन पर अमल भी हो। इसी सोच को हमनें बीते चार वर्षों से आगे बढ़ाया है। केंद्र सरकार की अनेक योजनाओं को जनता अपनी जिम्‍मेदारी समझ कर आगे बढ़ा रही हैं। सरकार, सरोकार और सहकार ये भावना देश में मजबूत हुई है।

देश का युवा आज विकास में खुद को stake holder मानने लगा है। सरकारी योजनाओं को अपनेपन के भाव से देखा जाने लगा है। उसको लगने लगा है कि उसकी आवाज सुनी जा रही है और यही कारण है कि सरकार और सिस्‍टम पर विश्‍वास आज अभूतपूर्व स्‍तर पर है। ये विश्‍वास तब जगता है जब सरकार तय लक्ष्‍य हासिल करते हुए दिखती है। पारदर्शिता के साथ काम करती हुई नजर आती है।

साथियों, जागरण फोरम में आप अनेक विषयों पर चर्चा करने वाले हैं। बहुत से सवाल उठाए जाएंगे, बहुत से जवाब भी खोजे जाएंगे। एक प्रश्‍न आपके मंच पर मैं भी उठा रहा हूं। और प्रश्‍न मेरा है लेकिन उसके साथ पूरे देश की भावनाएं जुड़ी हुई हैं। आप भी अक्‍सर सोचते होंगे, हैरत में पड़ते होंगें कि आखिर हमारा देश पिछड़ा क्‍यों रह गया। आजादी के इतने दशकों के बाद.. ये कसक आपके मन में भी होगी कि हम क्‍यों पीछे रह गए। हमारे पास विशाल उपजाऊ भूमि है, हमारे नौजवान बहुत प्रतिभाशाली और मेहनती भी हैं, हमारे पास प्राकृतिक संसाधनों की कभी कोई कमी नहीं रही। इतना सब कुछ होने के बावजूद हमारा देश आगे क्‍यों नहीं बढ़़ पाया। क्‍या कारण है कि छोटे-छोटे देश भी जिनकी संख्‍या बहुत कम है, जिनके पास प्राकृतिक संपदा भी लगभग न के बराबर है। ऐसे देश भी बहुत कम समय में हमसे आगे निकल गए हैं।

ये हमारे देश‍वासियों की क्षमता है कि हमारा चंद्रयान चांद तक पहुंच गया। हमने बहुत कम लागत में मंगल मिशन जैसा महायज्ञ पूरा किया। लेकिन क्‍या कारण है कि इस देश के करोड़ों लोगों के गांव तक सड़क भी नहीं पहुंची है।

साथियों, भारतवासियों के इनोवेशन से दुनिया जगमगा रही है। लेकिन क्‍या कारण रहा है कि करोड़ों भारतीयों को बिजली भी नहीं मिल पाती थी, आखिर हमारे देश के लोग छह दशक से ज्‍यादा समय तक बुनियादी सुविधाओं के लिए भी क्‍यों तरसते रहे। बड़े-बड़े लोग सत्‍ता में आए, बड़े-बड़े स्‍वर्णिम वाले लोग भी सत्‍ता में आए और चले भी गए। लेकिन दशकों तक जो लोग छोटी-छोटी समस्‍याओं से जूझ रहे थे, उनकी समस्‍याओं का समाधान नहीं हो सका।

साथियों, मंजिलों की कमी नहीं थी, कमी नीयत की थी, पैसों की कमी नहीं थी, passion की कमी थी, solution की कमी नहीं थी, संवेदना की कमी थी, सामर्थ्‍य की कमी नहीं थी, कमी थी कार्य संस्‍कृति की। बहुत आसानी से कुछ लोग कबीरदास जी के उस ध्‍येय को बिगाड़ करके मजाक बना देते हैं। जिसमें उन्‍होंने कहा था कल करे सो आज कर, आज करे सो अब लेकिन सोचिए अगर ये भाव हमारी कार्य संस्‍कृति में दशकों पहले आ गया होता तो आज देश की तस्‍वीर क्‍या होती।

साथियों, हाल ही में मैंने एलिफेंटा तक under water cables के जरिए बिजली पहुंचाने का एक वीडियो बहुत वायरल हो रहा था। मेरी भी नजर पड़ी, उम्‍मीद है आपने भी देखा होगा। कल्‍पना कीजिए मुंबई से थोड़ी ही दूरी पर बसे लोगों को कैसा लगता होगा, जब वो खुद अंधेरे में रात-दिन गुजारते हुए, मुंबई की चकाचौंध को देखते होंगे, उस अंधेरे में 70 साल गुजार देने की कल्‍पना करके देखिए। अभी कुछ दिन पहले ही मुझे एक व्‍यक्ति ने पत्र लिख करके धन्‍यवाद दिया, उसने पत्र इसलिए लिखा क्‍योंकि मेघालय पहली बार ट्रेन से जुड़ गया है। क्‍या आप कल्‍पना कर सकते हैं कि हमारे सत्‍ता में आने से पहले मेघालय, मिजोरम और त्रिपुरा भारत के रेल मैप में नहीं थे। सोचिए किसने किस तरह इन राज्‍यों के लोगों की जिंदगी पर असर डाला होगा।

साथियों, पहले देश किस दिशा में किस रफ्तार से चल रहा था और आज किस दिशा में और किस तेजी के साथ, रफ्तार से आगे जा रहा है। ये मेरे मीडिया के साथियों के लिए अध्‍ययन का और मंथन का विषय भी हो सकता है। कब करेंगे वो हम नहीं जानते। सोचिए आखिर क्‍यों आजादी के 67 साल तक केवल 38 प्रतिशत ग्रामीण घरों में ही शौचालय बने और कैसे…. सवाल का जवाब यहां शुरू होता है, कैसे, केवल चार साल में 95 प्रतिशत घरों में, ग्रामीण घरों में शौचालय उपलब्‍ध करा दिया गया। सोचिए… आखिर क्‍यों आजादी के 67 साल बाद तक केवल 55 प्रतिशत बस्तियां टोले और गांव तक ही सड़क पहुंची थी और कैसे… केवल चार साल में… सड़क संपर्क को बढ़ाकर 90 फीसदी से ज्‍यादा बस्तियों, गांवों, टोलों तक पहुंचा दिया गया। आखिर सोचिए… क्‍यों आजादी के 67 साल बाद तक केवल 55 प्रतिशत घरों में ही गैस का कनेक्‍शन था और अब कैसे केवल चार साल में गैस कनेक्‍शन का दायरा 90 प्रतिशत घरों तक पहुंचा दिया गया है। सोचिए… आखिर क्‍यों आजादी के बाद के 67 वर्षों तक केवल 70 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों तक ही बिजली की सुविधा पहुंची थी। और अब कैसे… बीते चार वर्षों में 95 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों तक बिजली पहुंच गई है। साथियों इस तरह के सवाल पूछते-पूछते घंटों निकल सकते हैं, व्‍यवस्‍थाओं में अपूर्णता से संपूर्णता की तरफ बढ़ते हमारे देश ने पिछले चार, साढ़े चार वर्षों में जो प्रगति की है वो अभूतपूर्व है।

साथियों, सोचिए… आखिर क्‍यों आजादी के 67 वर्षों तक देश के सिर्फ 50 प्रतिशत परिवारों के पास ही बैंक के खाते थे। ऐसा कैसे हुआ कि आज देश का लगभग हर परिवार बैंकिग सेवा से जुड़ गया है। सोचिए… कि आखिर ऐसा क्‍यों था कि आजादी के 67 वर्षों तक बमुश्किल चार करोड़ नागरिक ही इनकम टैक्‍स रिटर्न भर रहे थे। सवा सौ करोड़ का देश… चार करोड़, केवल चार वर्ष में ही तीन करोड़ नए नागरिक इनकम टैक्‍स के नेटवर्क से जुड़ गए हैं। सोचिए… कि आखिर क्‍यों ऐसा था कि जब तक जीएसटी नहीं लागू हुआ था हमारे देश में इनडायेरक्‍ट टैक्‍स सिस्‍टम से 66 लाख उद्धमी ही रजिस्‍टर थे। और अब जीएसटी लागू होने के बाद 54 लाख नए लोगों ने रजिस्‍टर करवाया।

साथियों, आखिर पहले की सरकारें ऐसा क्‍यों नहीं कर सकी और अब जो हो रहा है वो कैसे हो रहा है। लोग वही है, bureaucracy वही है, संस्‍थाएं भी वही है, फाइल का जाने का रास्‍ता भी वही है, टेबल कुर्सी कलम वो सब कुछ वही है फिर भी ये बदलाव क्‍यों आया। इस बात का ये सबूत है कि देश बदल सकता है। और मैं आपको ये भी दिलाना चाहता हूं कि जो भी बदलाव आया है, जो भी परिवर्तन आ रहा है, गति आई है वो तब तक नहीं आती जब तक बिल्‍कुल जमीनी स्‍तर पर जाकर फैसले नहीं कर लिए जाते, उन पर अमल नहीं किया जाता।

आप कल्‍पना करिए… अगर देश के नागरिकों को दशकों पहले ही मूलभूत आवश्‍यकताएं उपलब्‍ध करा दी गई होती तो हमारा देश कहां से कहां पहुंच गया होता। देश के नागरिकों के लिए ये सब करना मेरे लिए सौभाग्‍य की बात है। लेकिन ये उतना ही दुर्भाग्‍यपूर्ण है कि देश को इसके लिए इतने वर्षों तक तरसना पड़ा।

साथियों, जब हमारे देश के गरीब, शोषित और वंचितों को सारी मूलभूत सुविधाएं उपलब्‍ध हो जाएंगी.. उन्‍हें शौचालय, बिजली, बैंक अकाउंट्स, गैस कनेक्‍शनस, शिक्षा, अरोग्‍य जैसी चीजों की चिंताओं से मुक्ति मिल जाएगी तो फिर मेरे देश के गरीब खुद ही अपनी गरीबी को परास्‍त कर देंगे। ये मेरा विश्‍वास है। वो गरीबी से बाहर निकल आएंगे और देश भी गरीबी से बाहर निकल आएगा। बीते चार वर्षों में आप इस परिवर्तन को होते हुए देख भी रहे हैं। आंकड़े इसकी गवाही दे रहे हैं, लेकिन ये सब पहले नहीं हुआ। और पहले इसलिए नहीं हुआ क्‍योंकि गरीबी कम हो जाएगी तो गरीबी हटाओ का नारा कैसे दे पाएंगे। पहले इसलिए नहीं हुआ, क्‍योंकि जब मूलभूत सुविधाएं सबको मिल जाएंगी तो वोट बैंक की पॉलिटिक्‍स कैसे हो जाएगी। तुष्टिकरण कैसे होगा।

भाईयो और बहनों, आज जब हम देश के शत-प्रतिशत लोगों को करीब-करीब सभी मूलभूत सुविधाएं देने के लिए करीब पहुंच गए हैं तो भारत दूसरे युग में छलांग लगाने के लिए भी तैयार है। हम करोड़ों भारतीयों के aspirations उनकी आंकाक्षाओं को पूरा करने के लिए तत्‍पर हैं। आज हम न्‍यू इंडिया के संकल्‍प से सिद्धि की यात्रा की ओर अग्रसर हैं। इस यात्रा में जिस प्रकार टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल भारत कर रहा है। वो दुनिया के विकासशील और पिछड़े देशों के लिए भी एक मॉडल बन रहा है।

साथियों, आज भारत में connectivity से लेकर communication तक competition से लेकरconvenience जीवन के हर पहलू को तकनीक से जोड़ने का प्रयास हो रहा है। तकनीक और मानवीय संवेदनाओं की शक्ति से ease of leaving सुनिश्चित की जा रही है। हमारी व्‍यवस्‍थाएं तेजी से नए विश्‍व की जरूरतों के लिए तैयार हो रही हैं। सोलर पावर हो, बायोफ्यूल हो इस पर आधुनिक व्‍यवस्‍थाओं को तैयार किया जा रहा है।

देश में आज 21वीं सदी की आवश्‍यकताओं को देखते हुए next generation infrastructure तैयार हो रहा है। highway हो, Railway हो, Airwayहो, Waterway हो चौतरफा काम किया जा रहा है। हाल में आपने देखा किस प्रकार वाराणसी और कोलकाता के बीच Waterway की नई सुविधा कार्यरत हो गई है। इसी तरह देश में बनी बिना इंजन ड्राइवर वाली ट्रेन… ट्रेन 18 और उसका ट्रायल तो आपके अखबारों में हैडलाइन में रहा है। हवाई सफर की तो स्थिति ये हो गई है कि आज एसी डिब्‍बों में चलने वाले यात्रियों से ज्‍यादा लोग अब हवाई जहाज में उड़ने लगे हैं। ये इसलिए हो रहा है क्‍योंकि सरकार छोटे-छोटे शहरों को टियर-2सीटीज, टियर-3सीटीज को भी उड़ान योजना से जोड़ रही है। नए एयरपोर्ट और एयर रूट विकसित कर रही है। व्‍यवस्‍था में हर तरफ बदलाव कैसे आ रहा है, इसको समझना बहुत जरूरी है। एलपीजी सेलेंडर रिफिल के लिए पहले कई दिन लग जाते थे अब सिर्फ एक दो दिन में ही मिलना शुरू हो गया है। पहले इनकम टैक्‍स रिफंड मिलने में महीनों लग जाते थे। ये भी अब कुछ हफ्तों में होने लगा है। पासपोर्ट बनवाना भी पहले महीनों का काम था अब वही काम एक दो हफ्ते में हो जाता है। बिजली, पानी का कनेक्‍शन अब आसानी से मिलने लगा है। सरकार की अधिकतर सेवाएं अब ऑनलाइन हैं, मोबाइल फोन पर हैं। इसके पीछे की भावना एक ही है कि सामान्‍यजन को व्‍यवस्‍थाओं से उलझना न पड़ें, जूझना न पड़े, कतारें न लगे, करप्‍शन की संभावनाएं कम हो और रोजमर्रा की परेशानी से मुक्ति मिले।

साथियों, सरकार न सिर्फ सेवाओं को द्वार-द्वार तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है बल्कि योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक जरूर पहुंचे इसके लिए भी सरकार गंभीर प्रयास कर रही है। प्रधानमंत्री आवास योजनाके तहत मिल रहे घर हों, उज्‍ज्‍वला योजना के तहत मिल रहे गैस के कनेक्‍शन हों, सौभाग्‍य योजना के तहत बिजली का कनेक्‍शन हों, शौचालय की सुविधा हो। ऐसी तमाम योजनाओं के लाभार्थियों तक सरकार खुद जा रही है, उनकी पहचान कर रही है, उन्‍हें ये सुविधाएं लेने के लिए प्रोत्‍साहित कर रही है। देश के 50 करोड़ से अधिक गरीबों के स्‍वास्‍थ्‍य को सुरक्षाकवच देने वाली प्रधानमंत्री जन-अरोग्‍य योजना PMJAY यानि आयुष्‍मान भारत योजनातो वेलफेयर और फेयरप्‍ले का बेहतरीन उदाहरण है।

डिजिटल तकनीक automation और मानवीय संवेदनशीलता को कैसे जनसामान्‍य के भले के लिए उपयोग किया जा सकता है। ये आयुष्‍मान भारत में दिखता है। इस योजना के लाभार्थियों की पहचान पहले की गई। फिर उनकी जानकारी को, डेटा को तकनीक के माध्‍यम से जोड़ा गया और फिर गोल्‍डन कार्ड जारी किए जा रहे हैं। गोल्‍डन कार्ड और आयुष्‍मान मित्र यानी तकनीक और मानवीय संवेदना के संगम से गरीब से गरीब को स्‍वास्‍थ्‍य का लाभ बिल्‍कुल मुफ्त मिल रहा है।

साथियों, अभी इस योजना को 100 दिन भी नहीं हुए हैं, सिर्फ तीन महीने से कम समय हुआ है और अब तक देश के साढ़े चार लाख गरीब जिसका लाभ उठा चुके हैं, या अभी अस्‍पताल में इलाज करा रहे हैं। गर्भवती महिलाओं की सर्जरी से लेकर कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों तक का इलाज आयुष्‍मान भारत की वजह से संभव हुआ है।

इस हाल में बैठे हुए, इस चकाचौंध से दूर अनेक लोगों के बारे में सोचिए… कि ये लोग कौन हैं ये श्रमिक हैं, ये कामगार हैं, किसान हैं, खेत और कारखानें में मजदूरी करने वाले लोग हैं, ठेला चलाने वाले, रिक्‍शा चलाने वाले लोग हैं। कपड़े सिलने का काम करने वाले लोग हैं। कपड़े धोकर जीवन-यापन करने वाले लोग हैं। गांव और शहरों के वो लोग जो गंभीर बीमारी का इलाज सिर्फ इसलिए टालते रहते थे क्‍योंकि उनके सामने एक बहुत बड़ा सवाल हमेशा रहता था… अपनी दवा पर खर्च करें या परिवार के लिए दो वक्‍त की रोटी पर खर्च करें। अपनी दवा पर खर्च करें या बच्‍चों की पढ़ाई पर खर्च करें। गरीबों को इस सवाल का जवाब आयुष्‍मान भारत योजना के तौर पर मिल चुका है।

साथियों, गरीब के सशक्तिकरण का माध्‍यम बनाने का ये काम सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं रहने वाला है। इसको आने वाले समय में विस्‍तार दिया जाना है। हमारा प्रयास है कि बिचौलियों को तकनीक के माध्‍यम से हटाया जाए। उत्‍पादक और उपभोक्‍ता को जितना संभव हो उतना पास लाया जाए। भ्रष्‍टाचार चाहे किसी भी स्‍तर पर हो हमारी नीति स्‍पष्‍ट भी है और सख्‍त भी है। इस सेक्‍टर में किए जा रहे हमारे इन प्रयासों को दुनिया भी देख रही है। और इसलिए भारत को संभावनाओं का देश बताया जा रहा है।

साथियों, जैसा कि आप सभी जानते हैं पिछले दिनों अर्जेंटीना में जी-20 का सम्‍मेलन हुआ उस सम्‍मेलन में आए नेताओं से मेरी बातचीत हुई। हमनें अपनी बाते भी दुनिया की ताकतवर अर्थव्‍यस्‍थाओं के बीच रखी। जो आर्थिक अपराध करने वाले हैं, भगोड़े हैं उनको दुनिया में कहीं भी सुरक्षित पनाहगाह न मिले इसके लिए भारत ने कुछ सुझाव अंतरर्राज्‍य समुदाय के बीच रखे। मुझे ये विश्‍वास है कि हमारी ये मुहिम आज नहीं तो कल कभी न कभी रंग लाएगी।

साथियों, इस विश्‍वास के पीछे एक बड़ा कारण ये है कि आज भारत की बात को दुनिया सुन रही है, समझने का प्रयास कर रही है, हमारे दुनिया के तमाम देशों से रिश्‍तें बहुत मधुर हुए हैं। उसके परिणाम आप सभी और पूरा देश देख भी रहा है, अनुभव भी कर रहा है। अभी तीन-चार दिन पहले ही इसका एक और उदाहरण आपने देखा है, ये सब संभव हो रहा है हमारे आत्‍मविश्‍वास के कारण, हमारे देश के आत्‍मविश्‍वास के कारण।

साथियों, आज बड़े लक्ष्‍यों, कड़े और बड़े फैसलों का अगर साहस सरकार कर पाती है तो उसके पीछे एक मजबूत सरकार है। पूर्ण बहुमत से चुनी हुई सरकार है। न्‍यू इंडिया के लिए सरकार का फोकस- सामर्थ्‍य, संसाधन, संस्‍कार, परंपरा, संस्‍कृति और सुरक्षा पर है। विकास की पंच धारा, जो विकास की गंगा को आगे बढ़ाएगी। ये विकास की पंच धारा- बच्‍चों की पढ़ाई, युवा को कमाई, बुजुर्गों को दवाई, किसानों को सिंचाई, जन-जन की सुनवाई। ये पांच धाराएं इसी को केंद्र में रखते हुए सरकार विकास की गंगा को आगे बढ़ा रही है।

नए भारत के नए सपनों को साकार करने में दैनिक जागरण की, पूरे मीडिया जगत की भी एक महत्‍वपूर्ण भूमिका रहने वाली है। सिस्‍टम से सवाल करना ये आपकी जिम्‍मेवारी है और आपका अधिकार भी है। मीडिया के सुझावों और आपकी आलोचनाओं का तो मैं हमेशा स्‍वागत करता रहा हूं। अपनी स्‍वतंत्रता को बनाए रखते हुए, अपनी निष्‍पक्षता को बनाए रखते हुए दैनिक जागरण समूह राष्‍ट्र निर्माण के प्रहरी के तौर पर निरंतर कार्य करता रहेगा। इसी उम्‍मीद इसी विश्‍वास के साथ मैं अपनी बात समाप्‍त करता हूं। आप सभी को 75 वर्ष पूरे करने के लिए फिर से बधाई और उज्‍ज्‍वल भविष्‍य के लिए अनेक-अनेक शुभकामनाएं देते हुए मेरी वाणी को विराम देता हूं। बहुत-बहुत धन्‍यवाद।