Daily Archive: September 7, 2017

दिल्ली में हुआ ट्रेन हादसा , ट्रेन पटरी से उतरने के साथ ही यात्रियों में मचा हड़कंप

यूपी के सोनभद्र में हावड़ा से जबलपुर जा रही डाउन 11448 शक्तिपुंज एक्सप्रेस के सात डिब्बे पटरी से उतरने के कुछ घंटे बाद ही दिल्ली में रांची राजधानी एक्‍सप्रेस पटरी से उतर गई।

जानकारी के मुताबिक, दिल्‍ली में शिवाजी ब्रिज स्‍टेशन के पास ट्रेन का इंजन और एक पावर कार पटरी से उतर गई। ट्रेन रांची से नई दिल्‍ली आ रही थी।

बताया जा रहा है कि इस हादसे में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। हालांकि, ट्रेन के पटरी से उतरने के साथ ही यात्रियों में हड़कंप मच गया था। वहीं, स्टेशन पर मौजूद यात्री भी घबरा गए।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, शिवाजी ब्रिज के पास रांची एक्सप्रेस की गति बेहद धीमी थी, ऐसे में कोई ज्यादा नुकसान की खबर नहीं है। वहीं, भारतीय रेलवे का कहना है कि यह छोटी दुर्घटना थी। इसमें सभी यात्री सुरक्षित हैं। हादसे के दौरान स्टेशन के करीब होने के चलते ट्रेन की गति काफी धीमी थी।

जानिए कौन है अबू सलेम और क्या है 1993 मुंबई ब्लास्ट में उसका रोल?

मुंबई| मुंबई की विशेष टाडा अदालत आज 1993 मुंबई ब्लास्ट के दोषियों को सजा सुना दी. कुख्यात डॉन अबू सलेम को उम्रकैद की सजा मिली है. 1993 मुंबई ब्लास्ट मामले में पुर्तगाल से 2005 में प्रत्यर्पित कर लाया गया माफिया डॉन अबु सलेम के साथ मुस्तफा दोसा, मोहम्मद ताहिर मर्चेट उर्फ ताहिर टकला, करीमुल्लाह खान, रियाज सिद्दीकी और फिरोज अब्दुल राशिद खान को दोषी करार दिया गया था. अदालत द्वारा दोषी करार दिए जाने के बाद दोसा की मौत हो गई थी. आइए जानते हैं कि माफिया डॉन अबू सलेम कौन है और उसका इस ब्लास्ट में क्या रोल था.

कौन है अबू सलेम?

अबू सलेम का जन्म यूपी के आजमगढ़ जिले के सराय मीर गांव में साल 1969 में एक साधारण परिवार में हुआ. उसका पूरा नाम अबू सलेम अब्दुल कय्यूम अंसारी है. अबू सलेम के पिता पेशे से वकील थे जिनकी सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. घर में पैसों की तंगी के चलते अबू सलेम ने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी और मैकेनिक की दुकान पर काम करने लगा.

पैसे कमाने के लिए चलाई टैक्सी:
आजमगढ़ में मैकेनिक का काम करने के बाद अबू सलेम ने दिल्ली का रुख किया. राजधानी में सलेम ने काफी दिनों तक टैक्सी चलाई मगर कुछ समय बाद वह सपनो के शहर मुंबई चला आया. सलेम ने यहां भी बतौर टैक्सी ड्राइवर काम शुरू किया.

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद से मुलाकात:

साल 1989 में बतौर टैक्सी ड्राइवर सलेम की मुलाकात अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से हुई. शुरूआत में दोनों के बीच केवल सलाम-दुआ ही होती थी मगर धीरे-धीरे सलेम और दाऊद के बीच नजदीकियां बढ़ीं और वह डी-कंपनी में शामिल हो गया. जल्द ही उसकी गिनती दाऊद के सबसे खास लोगों में होने लगी. सलेम, दाऊद के लिए जमीन के सौदे और हथियारों की सप्लाई के काम देखने लगा.

पहले वह गैंग के आम मेम्बर की तरह काम करता रहा लेकिन अपने हुनर और तेज़ दिमाग चलते जल्द ही वह गैंग में आगे बढ़ गया. दाऊद को सलेम पर इतना भरोसा हो गया कि उसने सलेम को डी-कंपनी का पूरा जिम्मा सौंप दिया. सलेम दाऊद के इशारों पर फिल्मी सितारों, बड़े कारोबारियों और बिल्डरों से जबरन वसूली करना शुरू कर दिया. मुंबई के लोग भी धीरे धीरे उसे जानने लगे थे.

1993 मुंबई ब्लास्ट में रोल:
12 मार्च, 1993 को मुंबई में सिलसिलेवार बम धमाके हुए. इन ब्लास्ट का इल्जाम दाऊद गैंग पर लगा. इन धमाकों में सलेम पर हथियार व गोलाबारूद सहित एके-47 राइफल और हथगोला आपूर्ति का आरोप था, जिसका विस्फोट में इस्तेमाल किया गया था. इसे गुजरात से मुंबई 1993 के प्रारंभ में लाया गया था. 1997 में बॉलीवुड के निर्माता गुलशन कुमार की हत्या में भी उसका नाम सामने आया था. अभिनेत्री मनीषा कोइराला के सेक्रेटरी समेत कई लोगों की हत्या के मामलों में भी उसका नाम शामिल है.

पुर्तगाल से सशर्त गिरफ्तारी:
1993 ब्लास्ट सहित कई अन्य आरोंपो से घिरा सलेम देश छोड़कर भाग गया. 20 सितंबर, 2002 को इंटरपोल की मदद से पुर्तगाल में मोनिका बेदी के साथ गिरफ्तार किया गया. फरवरी 2004 में पुर्तगाल की एक अदालत ने उसका भारत में प्रत्यर्पण किए जाने को मंजूरी दे दी थी. उसे 2005 में भारत लाया गया था. प्रत्यर्पण संधि के हिसाब से उसे अधिकतम 25 साल की सजा दी जा सकती है.

निजी जीवन
सलेम की पहली शादी समीरा जुमानी से हुई, पहली बीवी से सलेम के दो बच्चे थे. कुछ सालों बाद ही सलेम और समीरा के बीच अनबन के बाद तलाक हो गया. सलेम ने फिर मोनिका बेदी से शादी करने का दावा किया. हालांकि मूल रूप से पंजाब के होशियारपुर जिले के चब्बेलाल गांव की रहने वाली मोनिका ने इससे इन्कार करते हुए कहा था कि मैं सलेम के साथ रही हूं लेकिन हमारा निकाह नहीं हुआ.

Deadly malaria: 7 facts you should know about it

With news out this week that a new “game-changing” malaria treatment may be on its way, and many travellers heading off to malaria transmission areas for summer vacations, the mosquito-spread disease is once again in the spotlight. Although global rates of malaria have fallen, the disease remains a major public health threat around the world, with nearly half of the of the world’s population at risk. The problem is particularly prevalent in sub-Saharan Africa, where an estimated 43% of people do not have access to the tools needed to prevent malaria.

Here we round up some of the facts to keep you informed, as well as what the new treatment could mean for millions around the world.

What is malaria?

Malaria is a life-threatening disease caused by parasites transmitted to people through the bites of infected female mosquitoes. Five species of parasites cause malaria in humans, with Plasmodium falciparum the deadliest and the most prevalent malaria parasite on the African continent.

Who is at risk?

In 2015, nearly half of the world’s population was at risk of malaria, although some are at a higher risk than others, including children under 5 years of age, pregnant women and patients with HIV/AIDS, as well as non-immune migrants, mobile populations and travellers. Most malaria cases and deaths occur in sub-Saharan Africa, although South-East Asia, Latin America and the Middle East are also at risk.

Symptoms usually appear 10-15 days after the infective mosquito bite, and start with fever, headache, and chills. (Shutterstock)

How can malaria be prevented?

Controlling mosquitoes is the main way to prevent and reduce malaria transmission, with the World Health Organization (WHO) recommending two forms of control – insecticide-treated mosquito nets (ITNs) and indoor residual spraying (IRS). Long-lasting insecticidal nets (LLINs) are the preferred form of ITNs, with WHO recommending all people at risk of malaria sleep under a LLIN every night.

IRS with insecticides is a powerful way to rapidly reduce malaria transmission and works best when at least 80% of houses in targeted areas are sprayed. It is effective for 3-6 months, depending on insecticide used and type of surface sprayed.

Are there vaccines?

Antimalarial medicines can be used to prevent malaria, and for those travelling, taking the drug chemoprophylaxis can prevent the disease. For those at a high risk and living in a malaria transmission area, WHO recommends alternative preventative drugs, with more information provided on their website.

What are the symptoms of an infection?

Symptoms usually appear 10-15 days after the infective mosquito bite, and start with fever, headache, and chills. However, symptoms may be mild and hence difficult to recognise as malaria, but early diagnosis and treatment is the best way to reduce the disease, its transmission, and prevent deaths.

What are the treatments currently available?

The best available medication to treat malaria, particularly for the deadlier P. falciparum malaria, is artemisinin-based combination therapy (ACT).

How is the new treatment different?

According to the Financial Times, the treatment is the first new potential medication for malaria for 20 years, with clinical trials now starting in nine countries across Africa and Asia. Known as KAF156 and developed by Swiss drug company Novartis, the new treatment has been described as “a game changer,” with research suggesting that the medication not only rapidly cures the infection, but also works on resistant strains and blocks transmission of the parasite. If the promising drug lives up to researcher’s hopes it won’t be available for a few years yet, but it could mean we are one step closer to a powerful life-saving treatment.

Cardiac arrest during sex is likely to kill

Scientists believe women being too embarrassed to call for help is one reason for the increased death rate.

People who suffer cardiac arrest while having sex are four times more likely to die than other victims, says a new study.

According to the study, only 12 percent of men whose heart suddenly stopped during sex survived, which is far fewer that the 50 percent of those who suffered cardiac arrest while playing a sport, walking or gardening.

Scientists say that one of the most probable reasons for it could be that women whose partners collapse are too embarrassed to call for help and the shock might also prevent them from trying to resuscitate their partner.

According to lead author of the study, Dr Ardalan Sharifzadehgan, of the Paris Sudden Death Expertise Centre, there’s social embarrassment and the women are shocked and they don’t know how to react. He goes on to add that the fact that both of them could be naked might prevent them from calling for help as well.

Dr Sharifzadehgan, who presented his findings at the European Society of Cardiology conference in Barcelona, assessed records on 3,028 people who had suffered a cardiac arrest and were still alive when they were admitted to hospital.

Of these, 246 had been doing physical activity when their heart stopped, of whom 17 – all men with an average age of 53 – had been having sex.

Cardiac arrest occurs when the heart suddenly stops pumping blood and if not resuscitated, patients can die within minutes.

He also found that fewer than half of the men who had been having sex were given CPR, compared with 80 per cent of the other victims.

Dr Sharifzadehgan said people should not be put off sex, stressing it is good for health. However, he added CPR education is vital.

Safety begins at home: Kailash Satyarthi

New Delhi: Nobel laureate Kailash Satyarthi speaks extensively about his Bharat Yatra from Kashmir to Kanyakumari against child sexual abuse. AD: Bharat Yatra is scheduled to be launched on September 11. Please brief us about this initiative of yours. KS: Bharat Yatra is not just a campaign; I call it war on rape, sexual abuse and trafficking. The growing menace of child sexual abuse and rape is not an ordinary crime. It has grown as a moral epidemic so fast that it has to be addressed on war footing. It cannot be stopped by running campaigns. So, we decided to bring together all sections of society, government, intelligence agencies, businessmen, faith leaders and primarily students and teachers and common man across the country.

AD: What is the message that you want to give through this Padayatra? KS: The message is to break your (people’s) silence. India should not be driven by fear but by fearlessness and freedom. A new India cannot be built on the foundations of fear, which exist everywhere — across the nation and across sections of society. Victims of sexual abuse, their parents, neighbours, friends, relatives and ordinary people are living in fear, whereas the rapist and abusers feel free to roam around. So this pendulum of the clock has to be changed. Fear should be in the minds of those who are committing crime and not those being victimised. The menace goes on because of social taboo and in most cases people do not report the crime. AD: Although the number of FIRs has increased by manifold, it is yet a fraction of the crime taking place. KS: Yes, it is quite less. In cases of sexual abuse, 70 per cent of the abusers are known to the child.

‘Dead’ woman wakes up in mortuary

New Delhi: 40-year-old, woman presumed to be dead and kept in the mortuary, sprang back to life in Vandanmed, a village in Idukki district. Rathnam was suffering from jaundice and was undergoing treatment at a hospital in Madurai for the past two months. Her internal organs had failed. The doctors had told that it was pointless to keep her at the hospital because she wasn’t recovering and had asked her relatives to take her home. The family members then took her to Vandanmed. While taking her there in an ambulance she showed no movement due to which the relatives thought she is dead. So they decided to keep her in a mortuary. After almost an hour, the relatives noticed her breathing and showing some movement.

According to the police the family members did not get a confirmation from the doctor or the hospital about her death before shifting her to a mortuary.

एक महीने के अंदर चौथा रेल हादसा, शक्तिपुंज एक्सप्रेस के 7 डिब्बे पटरे से उतरे

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में गुरुवार सुबह एक और रेल हादसा हो गया. शक्तिपुंज एक्सप्रेस के 7 डिब्बे पटरी से उतर गए. ट्रेन हावड़ा से जबलपुर जा रही थी. घटना ओबरा थाना क्षेत्र के फफराकुंड इलाके में हुई है. हादसे में अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. यह हादसा उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर हुआ है. बताया जा रहा है कि जो डिब्बे पटरी से उतरे हैं उनमें चार एसी कोच, दो जनरल कोच और एक एसएलआर कोच शामिल हैं.

गौरतलब है कि ट्रेन संख्या 11448 HWH-JBP शक्तिपुंज एक्सप्रेस ने ओबरा केबिन सुबह 6.13 पर पार किया था, जिस दौरान उसके 7 डिब्बे पटरी से उतरे. इस ट्रेन में कुल 21 डिब्बे थे.

प्राइवेट स्कूल 14 दिनों के अंदर लौटाएं बढ़ी हुई फीस: दिल्ली हाईकोर्ट

नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने 98 प्राइवेट स्कूलों को दो हफ्ते के अंदर अभिभावकों से ली हुई बढ़ी फीस कोर्ट में जमा कराने का आदेश दिया है. ये फीस प्राइवेट स्कूलों को दिल्ली हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल के दफ्तर में जमा करानी होगी. अगर स्कूल ऐसा नहीं करते हैं, तो सरकार कड़ी कार्रवाई करने से पीछे नहीं हटेगी. बुधवार को कोर्ट ने कहा कि ये फीस कैश/एफडीआर/बैंक गारंटी के तौर पर रजिस्ट्ररार को देनी होगी.

लों ने वसूली मनमानी फीस 
गौरतलब है कि प्राइवेट स्कूलों में मनमानी फीस वसूली पर लगाम कसने के लिए हाईकोर्ट ने पिछले साल जस्टिस अनिल देव सिंह कमेटी बनाई थी. कमेटी ने कुल 1108 प्राइवेट स्कूलों पर रिपोर्ट तैयार की. इसके मुताबिक, 544 स्कूलों ने ज्यादा फीस वसूल की. दिल्ली सरकार ने पिछले महीने कोर्ट को दिए हलफनामे में बताया कि 499 स्कूल फीस वापसी के लिए कमेटी की सिफारिशें नहीं मान रहे हैं.

रकार अपने हाथ में लेगी स्कूलों का प्रबंधन
18 अगस्त को केजरीवाल ने कहा, ‘449 स्कूल अनिल देव सिंह कमेटी की सिफारिशें नहीं मान रहे हैं, हम उनकी मनमानी नहीं सहेंगे. अगर पेरेंट्स से एक्स्ट्रा वसूली गई फीस नहीं लौटाई तो ऐसे स्कूलों का टेकओवर करेंगे.

दिल्ली सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट को अपने हलफनामे में प्राइवेट स्कूलों द्वारा अभिभावकों को बढ़ी हुई फीस वापस न करने की सूरत में दिल्ली सरकार ने 449 स्कूलों को टेक ओवर करने की बात कही थी.

सरकार ने हाई कोर्ट में कहा है कि पैसा नहीं लौटाने वाले इन सभी प्राइवेट स्कूलों का प्रबंधन अपने हाथों में लेने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी करने की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है और इसे मंजूरी के लिए उपराज्यपाल के पास भेज दिया गया है.

टेक ओवर से सहमत नहीं हाई कोर्ट

हांलाकि, हाईकोर्ट ने सरकार के प्राइवेट स्कूलों को टेक ओवर करने के इरादे पर भी सवाल खड़े कर दिए है. कोर्ट ने सरकार से पूछा है कि जब सरकारी स्कूलों को ही ठीक से चलाने के लिए आपके पास स्टाफ नहीं है तो इतनी बड़ी संख्या में प्राइवेट स्कूलों को आप टेक ओवर कर कैसे चलाएंगे। मामले की अगली सुनवाई 25 सितंबर को होगी.