Daily Archive: August 10, 2017

Polluted air can damage your DNA

The air in the Indian capital polluting day by day, the reports said that it will cause DNA damages in youngsters. The specific type of DNA damage called telemere shortening will result, and it is confirmed by the experts, the study says.

The new report published in Journal of Occupational and environmental medicine. The article reports that the symptoms showing, people with asthma signs of telomere shortening, which is a type of DNA damage normally related to ageing.

This is the worst health problem, that affects in human beings with air pollution, said the study by John Balmes of the University of California.

The researchers analysed the link between the telomeres shortening and polycyclic aromatic hydrocarbons (PAHs) which are an air pollutant released by vehicle exhaust.

The people most exposed to traffic related breathing problem is main victims of this DNA damage. Because of the vehicle exhaust the most dangerous air pollution, and the people in every category breaths this air every day, the article claims.

India is The Most Tolerant Country in The World, Says Vice President Elect Venkaiah Naidu

New Delhi, August 10: Vice President elect Venkaiah Naidu on Thursday said that India was the most tolerant country in the world. On a day when outgoing Vice President Hamid Ansari spoke about ‘unease among minorities’ in his last interview and farewell speech, Naidu said that mutual respect for each other was all that Indian ethos was all about. “Agenda of politics should be development. India is the most tolerant country in the world. Indian ethos is of mutual respect for each other. People try to use minority issues for political purposes,” Naidu said.

विदाई भाषण में भी अल्पसंख्यकों पर सरकार को नसीहत दे गए हामिद अंसारी

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने आज राज्यसभा में विदाई समारोह में अंतिम भाषण दिया. इस दौरान उन्होंने राज्यसभा सभापति के तौर पर अपने अनुभवों को साझा किया. साथ ही अल्पसंख्यकों की सुरक्षा पर सरकार को नसीहत भी दे गए.

हामिद अंसारी ने कहा कि राज्यसभा में सभापति रहना मेरे लिए क्रिकेट का अंपायर या हॉकी के रेफरी की तरह था जो बिना खेले ही खेल में शामिल रहता है. मुझे लगता है कि मैंने राज्यसभा में न्यायसंगत काम किया है.

अल्पसंख्यकों के मुद्दे पर उन्होंने सरकार को भी नसीहत दे डाली. उन्होंने कहा, जैसा कि डॉ. राधाकृष्णन ने कहा था कि लोकतंत्र का मतलब ही ये है कि अल्पसंख्यकों को पूरी तरह सुरक्षा मिले. लोकतंत्र तब तानाशाह हो जाता है जब विपक्षियों को सरकार की नीतियों की खुलकर आलोचना करने का मौका न दिया जाए. उपराष्ट्रपति ने कहा कि साथ ही अल्पसंख्यकों को भी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी.

उन्होंने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है जब असहनशीलता और कथित गौरक्षकों की गुंडागर्दी की घटनाएं सामने आई हैं और कुछ भगवा नेताओं की ओर से अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ बयान दिए गए हैं. उप-राष्ट्रपति के तौर पर 80 साल के अंसारी का दूसरा कार्यकाल आज 10 अगस्त, गुरुवार को पूरा हो रहा है. आज वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भी मुलाकात करने पहुंचे.

बयान से सियासी हलचल

बता दें कि आज ही हामिद अंसारी ने एक इंटरव्यू में ये कहा कि देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास है. हामिद अंसारी ने ‘स्वीकार्यता के माहौल’ को खतरे में बताते हुए कहा है कि देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना है.

अंसारी ने कहा कि उन्होंने असहनशीलता का मुद्दा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके कैबिनेट सहयोगियों के सामने उठाया है. उन्होंने इसे ‘परेशान करने वाला विचार’ करार दिया कि नागरिकों की भारतीयता पर सवाल उठाए जा रहे हैं. राज्यसभा टीवी पर जाने-माने पत्रकार करण थापर को दिए एक इंटरव्यू में जब अंसारी से पूछा गया कि क्या उन्होंने अपनी चिंताओं से प्रधानमंत्री को अगवत कराया है, इस पर उप-राष्ट्रपति ने ‘हां’ कहकर जवाब दिया.

Aadhar to become mandatory to buy shares, mutual funds

Aadhaar mandatory buy shares. Aadhar card soon can be made mandatory to buy shares and mutual fund units. The government and Security & Exchange board of India are planning to link Aadhar card to Financial market transaction. According to them it will help to stop the trading and gaming of black money to white through stock market.

According to the sources Government feels that Pan card is not enough to stop theft of tax. At present brokers, mutual fund companies and investors are identified from Pan Number and now Adhaar will be made mandatory soon although it is not announced yet.

The govt. has already said to link Aadhar card with Pan, Bank account and mobile no. Bank account holders have to submit their Aadhar no.

to banks by December 31 this year.

Aadhar can be used for KYC for Online Mutual Transaction. According to brokers mandatory Aadhar will help in stock market issues. Meanwhile one C.E.O of brokers firm said that some regional companies are worried that how many old customers will stay with them after making the Aadhar mandatory.

डोकलाम: सेना ने गांव खाली करने के आदेश दिए, जाट रेजिमेंट के सैनिकों ने संभाला मोर्चा

नई दिल्ली| सिक्किम सेक्टर में भारत और चीन के बीच जारी तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है. इस बीच खबर आ रही है कि भारतीय सेना ने डोकलाम के आस-पास के गांव को खाली करने का आदेश दे दिया है. न्यूज 18 की खबर के मुताबिक, सेना ने नाथंग गांव में रहने वाले लोगों को तुरंत ही  गांव खाली करने के आदेश दिए हैं.

वैसे अब तक यह साफ़ नहीं है कि गावं को जवानों के रहने के लिए खाली किया गया है या युद्ध की आशंका के चलते ये एहतियाती कदम है. वैसे नाथंग गांव के लोगों ने इसी अंग्रेजी वेबसाइट को बताया कि पिछले कुछ दिनों में उन्होंने सेना की कई टुकड़ियों को डोकलाम की ओर बढ़ते हुए देखा हैं.

हालांकि सेना ने डोकलाम की तरफ सैनिकों के बढ़ने की खबरों को खारिज किया है. वहीं, सेना के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह सेना वार्षिक अभ्यास का हिस्सा है जो सितंबर में होता है, मगर इस साल जल्दी किया जा रहा हैं.

चीन कर रहा है युद्ध की तैयारी 
आपको बता दें कि, डोकलाम और आस-पास के इलाकों में चीन चुपके-चुपके युद्ध की तैयारी कर रहा है. खबर है कि डोकलाम में जहां दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने हैं उससे करीब एक किलोमीटर के दायरे में चीन ने 80 टैंट लगा दिए हैं. चीनी सेना पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी (PLA) की तरफ से डोकलाम में ये बड़ी तैयारी मानी जा रही है.

चीन कई बार भारत को युद्ध की धमकी दे चुका है. उसने भारत से अपने कदम पीछे हटाने को कहा है.

भारत ने सीमा पर पहली पांत में तैनात हैं 6 फुट लंबे जाट रेजिमेंट के सैनिक
फर्स्टपोस्ट की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय सेना ने पहली पांत में छह फुट लंबे जाट रेजिमेंट के सैनिकों को खड़ा किया है. भारतीय सैनिकों को देखने के लिए चीन के छोटे सैनिकों को अपनी गर्दन खूब ऊंची ताननी होगी. रिपोर्ट के अनुसार पहली पांत के जवानों में से कुछ को मंदारिन (चीनी) भाषा आती है. वे चीनी सेना की हरकत पर नजर बनाए हुए है.

उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी का बयान- ‘देश के मुस्लिमों में बेचैनी’, तीन तलाक पर भी टिप्पणी

नई दिल्ली. निवर्तमान उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने ‘स्वीकार्यता के माहौल’ को खतरे में बताते हुए कहा है कि देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना है. उप-राष्ट्रपति के तौर पर 80 साल के अंसारी का दूसरा कार्यकाल 10 अगस्त, गुरुवार को पूरा हो रहा है. उन्होंने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है जब असहनशीलता और कथित गौरक्षकों की गुंडागर्दी की घटनाएं सामने आई हैं और कुछ भगवा नेताओं की ओर से अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ बयान दिए गए हैं.

अंसारी ने कहा कि उन्होंने असहनशीलता का मुद्दा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके कैबिनेट सहयोगियों के सामने उठाया है. उन्होंने इसे ‘परेशान करने वाला विचार’ करार दिया कि नागरिकों की भारतीयता पर सवाल उठाए जा रहे हैं. राज्यसभा टीवी पर जाने-माने पत्रकार करण थापर को दिए एक इंटरव्यू में जब अंसारी से पूछा गया कि क्या उन्होंने अपनी चिंताओं से प्रधानमंत्री को अगवत कराया है, इस पर उप-राष्ट्रपति ने ‘हां’ कहकर जवाब दिया.

देश के उप-राष्ट्रपति होने के नाते संसद के उच्च सदन राज्यसभा के सभापति का पद भी संभाल रहे अंसारी ने कहा, ‘हां..हां । लेकिन उप-राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच क्या बातें हो रही हैं, यह विशेषाधिकार वाली बातचीत के दायरे में ही रहना चाहिए.’ उन्होंने यह भी कहा कि अन्य केंद्रीय मंत्रियों के सामने भी उन्होंने इस मुद्दे को उठाया है.

सरकार की प्रतिक्रिया पूछे जाने पर अंसारी ने कहा, ‘यूं तो हमेशा एक स्पष्टीकरण होता है और एक तर्क होता है. अब यह तय करने का मामला है कि आप स्पष्टीकरण स्वीकार करते हैं कि नहीं और आप तर्क स्वीकार करते हैं कि नहीं.’ इस इंटरव्यू में अंसारी ने भीड़ की ओर से लोगों को पीट-पीटकर मार डालने की घटनाओं, ‘घर वापसी’ और तर्कवादियों की हत्याओं का हवाला देते हुए कहा कि यह ‘भारतीय मूल्यों का बेहद कमजोर हो जाना, सामान्य तौर पर कानून लागू करा पाने में विभिन्न स्तरों पर अधिकारियों की योग्यता का चरमरा जाना है और इससे भी ज्यादा परेशान करने वाली बात किसी नागरिक की भारतीयता पर सवाल उठाया जाना है.’

यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस बात से सहमत हैं कि मुस्लिम समुदाय में एक तरह की शंका है और जिस तरह के बयान उन लोगों के खिलाफ दिए जा रहे हैं, उससे वे असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, इस पर अंसारी ने कहा, ‘हां, यह आकलन सही है.’ उप-राष्ट्रपति ने कहा, ‘हां, यह एक सही आकलन है, जो मैं देश के अलग-अलग हलकों से सुनता हूं. मैंने बेंगलुरु में यही बात सुनी. मैंने देश के अन्य हिस्सों में भी यह बात सुनी. मैं इस बारे में उत्तर भारत में ज्यादा सुनता हूं. बेचैनी का अहसास है और असुरक्षा की भावना घर कर रही है.’

यह पूछे जाने पर कि क्या मुस्लिमों को ऐसा लगने लगा है कि वे ‘अवांछित’ हैं, इस पर अंसारी ने कहा, ‘मैं इतनी दूर नहीं जाऊंगा, असुरक्षा की भावना है.’ ‘तीन तलाक’ के मुद्दे पर अंसारी ने कहा कि यह एक ‘सामाजिक विचलन’ है, कोई धार्मिक जरूरत नहीं. उन्होंने कहा, ‘पहली बात तो यह कि यह एक सामाजिक विचलन है, यह कोई धार्मिक जरूरत नहीं है. धार्मिक जरूरत बिल्कुल स्पष्ट है, इस बारे में कोई दो राय नहीं है. लेकिन पितृसत्ता, सामाजिक रीति-रिवाज इसमें घुसकर हालात को ऐसा बना चुके है जो अत्यंत अवांछित है.’ उन्होंने कहा कि अदालतों को इस मामले में दखल नहीं देना चाहिए, क्योंकि सुधार समुदाय के भीतर से ही होंगे.

कश्मीर मुद्दे पर अंसारी ने कहा कि यह राजनीतिक समस्या है और इसका राजनीतिक समाधान ही होना चाहिए.

Carrying Forward the Success of Textiles India 2017

overnment sets up Institutional Mechanism to help realize full potential of Textiles Sector

Building on the overwhelming success of Textiles India 2017Ministry of Textiles has set up institutional mechanisms to synergize efforts of the Ministry of Textiles, related Ministries and state governments to enable the textile industry achieve its full potential of production, exports and employment.

Textiles India 2017, held at Gandhinagar, Gujarat from 30th June 2017 to 2nd July 2017, was not only the largest ever international trade event in Textile Sector in the country, but also hosted a series of roundtables (26) and international conferences with participation of eminent persons from the business fraternity, academia and policy makers to deliberate on various opportunities for growth of the sector.

Several key recommendations emerged from the deliberations.  To carry forward the recommendations, the Ministry of Textiles has set up the following institutional mechanisms involving relevant Ministries, State Governments and Industry partners:

Knowledge Network Management System on Product Diversification

A Steering Committee has been set up to oversee implementation of a Knowledge Network Management System (KNMS) to facilitate exchange of knowledge amongst academia, farming community and the industry on the productivity of natural fibres and diversification of their bye-products. The KNMS on Product Diversification would cover jute, silk, wool and cotton. The Committee under the chairmanship of Additional Secretary, Ministry of Textiles will have senior functionaries from the Ministry of Agriculture and Farmers’ Welfare, Ministry of Skill Development and Entrepreneurship, Department of Industrial Policy and Promotion (DIPP), Department of Animal Husbandry, Dairying and Fisheries, and the senior officers handling the fibres in the Ministry of Textiles.

Inter-Ministerial Synergy Group on Man-Made Fibre (MMF)

An Inter-Ministerial Synergy Group on Man-Made Fibre (MMF) comprising senior officers from Ministry of Petrochemicals; Department of Heavy Industries; Association of Synthetic Fibre Industry; Chairman, SRTEPC; Chairman, Indian Technical Textile Association; and ED, SRTEPC has been set up under the Chairmanship of Secretary, Textiles to formulate policy interventions to enhance growth and competitiveness of MMF industry in India.

Task Force on Textiles India

A Task Force on Textiles India, chaired by Secretary, Textiles and consisting of representatives of Department of Industrial Policy and Promotion, Consumer Affairs, Heavy Industry of Government of India, representatives of Partner/Focus states of Textiles India 2017, Export Promotion Councils, Textiles Associations and representatives from Consumer Associations has been set up to steer follow-up action on various outcomes of Textiles India 2017 for growth of the textiles sector.