Daily Archive: August 4, 2017

केंद्रीय राज्यवित्त मंत्री अर्जुनराममेघ वाल द्वारा होगा इंडियाइंटरनेशनलमेगाट्रेडफे यरकाभव्य उद्घाटन

ग्रेटर नोएडा : उत्तर पूर्व राज्य के बहुप्रतीक्षित मेगा व्यापार मेला का औपचारिक रूप से आज इंडिया एक्सपो मार्ट, ग्रेटर नोएडा में उद्घाटन किया जा रहा है। दुनिया भर के 1000 से अधिक व्यापारियों और निर्माताओं की उपस्थिति में चल रही यह वृहद् प्रदर्शनी 15 अगस्त तक 11:00 बजे से 08 बजे के मध्य आगंतुकों के लिए खुली रहेगी ।

माननीय केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल जी द्वारा औपचारिक रूप से आज शाम 4:00 बजे इंडिया इंटरेनशनल मेगा ट्रेड फेयर एक्सपो का उद्घाटन किया जाएगा। उद्घाटन समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में बृजेश नारायण सिंह, जिला मजिस्ट्रेट, गौतम बुद्ध नगर उपस्थित रहेंगे। उद्घाटन समारोह के दौरान अन्य कई महत्वपूर्ण अतिथियों की भी उपस्थिति रहेगी।

इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर में खरीदारों एवम आगंतुकों की आवाजाही जारी है| मेक इन इंडिया की पहल को बढ़ावा देने वाला यह मेगा इवेंट ईपीसीएच, एनएसआईसी और एमएसएमई द्वारा भी समर्थित है। दस लाख से अधिक व्यापारिक आगंतुकों एवम व्यक्तिगत उपभोक्ताओं की आने वाले दिनों में इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर का दौरा करने की उम्मीद जताई जा रही है । आईआईएमटीएफ के लिए प्रवेश टिकट ऑनलाइन बुक किए जा सकते हैं तथा साथ ही साथ समारोह स्थल पर मौजूद टिकट स्टाल्स से भी प्राप्त किये जा सकते हैं।ग्रेटर नोएडा में चल रहे इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर में अनेकों विदेशी उत्पादकों के साथ साथ भारत के 21 राज्य हिस्सा ले रहे हैं

जीएसटी संगोष्ठी का भी होगा आयोजन

ग्रेटर नोएडा के एक्सपो मार्ट में चल रहे इस मेगा व्यापार मेले में जीएसटी को लेकर एक सेमिनार का भी आयोजन किया जा रहा है| माननीय केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल जी कोसम्बोधितकियाजाएगा । जीएसटी से जुडी विभिन्न छोटी-बड़ी जानकारियों को इस सेमिनार द्वारा उपस्थित व्यापारियों और खरीदारों को अवगत कराया जायेगा | इस संगोष्ठी में वक्ता के रूप में एपीसीएच चेयरमैन ओ पी प्रहलाद के साथ साथ आईइएमएल के चैयरमन श्री राकेश कुमार जी अपना वक्तया रखेंगे। | जीएसटी सेमिनार के माध्यम से भारत के इस बड़े व्यापार मेले में उपस्थित जन समूह में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा।

इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर का ग्रे टर नोएडा में आज से शानदार आगाज

इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर का शानदार आयोजन ग्रेटर नोएडा में आज से प्रारम्भ हो चूका है |इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में आज से लेकर १५ -०८ -२०१७तक चलेगा | इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर कासमय सुबह 11 से रात 8 बजे तक रखा गया है | उत्तरप्रदेश के हाईटेक शहर ग्रेटर नोएडा में पहली बार इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेड फेयर का आयोजन किया जा रहा है | ग्रेटर नोएडा में चल रहे इंडिया इंटरनेशनल मेगा ट्रेडफेयर में 17 विदेशी देशों के साथ साथ भारत के 21राज्य हिस्सा ले रहे हैं। ट्रेड फेयर का औपचारिक उद्घाटन मुख्य अथिति मानयीय अर्जुन मेघवाल जी (केंद्रीय राज्य वित्तीय मंत्री) भारत सरकार और गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी बी एन सिंह के कर कमलों द्वारा कल किया जायेगा |

कार्यक्रम विवरण
दिनांक- 05 / 08/ 2017 (शनिवार )

समय – दोपहर :- ४ बजे

स्थान :- इंडिया एक्सपो मार्ट (ग्रेटर नोएडा )

Unauthorised constructions have made #Delhi dangerous: HC

New Delhi, Aug 4 (PTI) Delhi has become a dangerous city to live in because of rampant unauthorised construction, the high court here said today, and felt the need to unify the three municipal bodies as the trifurcation of MCD had “not improved” the situation.

Pulling up the three municipal corporations of Delhi, a bench of Acting Chief Justice Gita Mittal and Justice C Hari Shankar said the court was flooded with PILs against illegal and unauthorised constructions which showed no regulation was being followed by the civic bodies.

“Delhi is such a dangerous city now because of unauthorised constructions,” it said.

The court also said that “under the shield” of the National Capital Territory of Delhi Laws (Special Provisions) Act, amended from time to time, “completely illegal and rampant unauthorised constructions were going on”.

The Act, which was last amended by the Lok Sabha in December 2014, protected from punitive action all unauthorised constructions up to June 1, 2014.

Prior to the amendment, unauthorised constructions only up to February 8, 2007 were protected.

It observed that the MCD trifurcation had not improved the situation and there was a need to unify the trifurcated MCDs, while hearing a PIL alleging unauthorised construction was going on in some properties in Mehrauli in south Delhi.

Advocate Kushal Kumar, appearing for South Delhi Municipal Corporation, said that in the instant case the persons who were allegedly engaged in unauthorised construction had obtained sanction from it by applying online.

The bench, however, said that just because the application was made online, the corporation’s responsibility to carry out an inspection “does not get obviated”.

The court listed the matter for hearing on August 8.

App to Boost Students’ Academic Performance

Canberra, Aug 4: Researchers at the Swinburne University of Technology in Australia have developed a mobile learning app to boost the academic performance of the students. An app that uses game elements such as leaderboards and digital badges might prove to have a positive impact on students’ academic performance, engagement, and retention, according to a study. The study showed that when the app was first introduced in 2015, the score of students improved by over 12 per cent compared to the students in the previous semester.

The app will allow lecturers to push quizzes based on course content directly to their students’ devices. It is being done to motivate them, increase their competitiveness, and keep them engaged with the course through the quizzes.

After testing the app, the researchers found that there was a correlation between a good performance on app tasks and achieving higher academic grades. After testing the app, the researchers found that the students who had tried the app scored 7.03 per cent higher as compared to students who chose not to use the app, researchers said.

THE APP TO BOOST ACADEMIC PERFORMANCE

  • The app delivers questions directly to students on their devices.
  • Push notifications alert students each time a new quiz becomes available.
  • Various data – the speed of the students, the number of attempts it took them to get correct answers – is collected through the app engagement.
  • For each correct answer, students were assigned points which were collected in a leaderboard.

“Evidence-based research into student engagement tells us that well-engaged students are less likely to drop out,” said Ekaterina Pechenkina, corresponding author of the study.  “Our results imply that students are willing to use learning apps and that performing highly on the app may predict their future academic success,” Pechenkina said. “We developed our app to achieve multiple goals, including improving engagement and measuring academic performance,” she added.

“In order to do that, we designed the app to include multiple-choice quizzes, push notifications, digital leaderboards and badges,” she said.