Daily Archive: May 12, 2017

चुनाव आयोग सख्तः आयोग बोला, रविवार को हमें बताएं कैसे हैक हो सकती है EVM

चुनाव आयोग सख्तः आयोग बोला, रविवार को हमें बताएं कैसे हैक हो सकती है EVM
(12.05.2017)

नई दिल्ली: ईवीएम विवाद के बीच चुनाव आयोग ने आज सर्वदलीय बैठक की. राष्ट्रीय स्तर की 7 और राज्य स्तर की 48 छोटी-बड़ी राजनीतिक पार्टियां इस बैठक में शामिल हुईं. सभी पार्टियों के नुमाइंदे अपनी शिकायत और सुझाव लेकर पहुंचे. बीजेपी विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने इस पर कहा कि दो दिन हैकोथॉन हो सकता है. चुनाव आयोग ने 2 दिन बाद सबको बुलाया है. चुनाव आयोग ने बताया कि ईवीएम हैक नहीं हो सकती. चुनाव आयोग ने कहा कि दो दिन हम आपको मशीन देंगे. अपने एक्सपर्ट लेकर आइये, प्रूव योर बेस्ट.

उल्लेखनीय है कि हाल के दिनों में कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, बसपा, सपा समेत कुल 16 पार्टियों ने ईवीएम की विश्वसनीयता को लेकर सवाल उठाए थे, जिसके बाद चुनाव आयोग ने यह बैठक बुलाई. चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों को ईवीएम से छेड़छाड़ साबित करने की चुनौती दी है. इसके लिए इस महीने के आखिरी हफ्ते में हैकाथॉन की तैयारी है. आज की बैठक में हैकाथॉन की तारीख तय हो सकती है.

इस सर्वदलीय बैठक में आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विधायक सौरभ भारद्वाज करेंगे. सौरभ भारद्वाज के साथ पार्टी के टेक्निकल टीम के सदस्य भी इस बैठक में हिस्सा लेंगे. सौरभ भारद्वाज ने मंगलवार को दिल्ली विधानसभा में ईवीएम जैसी मशीन का डेमो दिखाकर टैम्पर करने का दावा किया और चुनाव आयोग को चुनौती दी कि वे औपचारिक रूप से ईवीएम टैम्पर करने के कार्यक्रम का आयोजन कर जिसमें आप आयोग की ईवीएम को हैक करके दिखाएगी.

अगर AAP पर संकट आया तो दिल्ली को मिल सकती है म हिला मुख्यमंत्री!

दिल्ली : तो क्या दिल्ली को फिर से एक नया महिला मुख्यमंत्री मिल सकता है? दिल्ली के राजनीतिक गलियारे में इस बात की चर्चा जोर-शोर से चल रही है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है.

सूत्रों की माने कपिल मिश्रा के आरोप और अनशन जिस तरह आम आदमी पार्टी के लिए गले की हड्डी बन चुका है. उसके बाद अंदरखाने चर्चा है कि आप के रणनीतिकार पार्टी को इस बड़े संकट से उबारने में सुनीता केजरीवाल को आगे लाने में जुट गये हैं.

पार्टी के अंदर मंथन चल रहा है कि अगर कपिल मिश्रा के आरोपों से केजरीवाल को पद छोडऩा पड़ा तो केजरीवाल का इस्तीफा और उनकी कुर्सी पर पत्नी सुनीता केजरीवाल का आना ही सब संकटों का हल हो सकता है. जानकार बताते हैं कि इस वक्त सुनीता केजरीवाल के अलावा आम आदमी पार्टी के पास कोई ऐसा चेहरा नहीं है जिसके जरिए मौजूदा संकट को टाला जा सके.

सुनीता केजरीवाल एक पढ़ी-लिखी और अरविंद केजरीवाल की तरह गंभीर स्वभाव मगर ठोस निर्णय लेने के लिए जानी जाती रही हैं. अरविंद केजरीवाल को नजदीक से जानने वालों का मानना है कि केजरीवाल के भले ही कोई कितना करीब हो, लेकिन वो किसी पर आंख मूंद कर भरोसा नहीं करते हैं.

दूसरी ओर जिस तरह से पिछले दिनों सुनीता केजरीवाल आम आदमी पार्टी के समर्थन और भाजपा के विरोध में रीट्वीट-ट्वीट कर रही हैं उससे यही संकेत मिल रहे है कि सुनीता अब राजनीति में काफी सक्रिय हैं. हाल में सुनीता ने अपने बहनोई के बचाव लिखा कि मेरे बहनोई इस दुनिया में नहीं रहे फिर भी ये बेवकूफ आदमी बिना दिमाग लगाए लिखी हुई स्क्रिप्ट बोल रहा है.

सुनीता केजरीवाल के रीट्वीट के सारे ट्वीट को पढने के बाद कोई भी ये समझ सकता है कि वे अपने पति अरविंद केजरीवाल के राजनीतिक कार्यों में हाल के दिनों में सक्रियता से साथ दे रही हैं. ऐसे में पार्टी में उनका आगमन भी हो सकता है.

हालांकि, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया अरविंद केजरीवाल के बहुत करीब माने जाते हैं, लेकिन पार्टी में उनके नाम पर भी एक राय नहीं बन सकती है, साथ ही मनीष सिसोदिया का नंबर 2 वाला रोल ही आप कार्यकर्ता और लोगों को ज्यादा पसंद आता है.

गौरतलब है कि नौकरी में रहते हुए सुनीता केजरीवाल ने सितंबर 2013 में ही ट्वीटर ज्वाइन कर लिया था. पहला रिट्वीट किया था 6 दिसंबर 2015 को. अपने जीजा के बचाव में किए सुनीता केजरीवाल के ट्वीट को करीब 1500 से ज्यादा लोगों ने रिट्वीट और लाइक किया है।

AAP-EVM tampering row: Now, Manish Sisodia tweets 3 proposals for Election Commission

Aam Aadmi Paty (AAP) leader and Delhi Deputy Chief Minister Manish Sisodia today put forward three proposals before the Election Commission. The poll body has convened an all-party meeting to discuss and to underline the credibility and trustworthiness of the Electronic Voting Machines (EVMs). Sisodia, who was among the AAP representatives in the meeting, tweeted that the EC "refused to carry out a hackathon." The EC will only throw a challenge asking the parties to prove that machines used in the past elections were tampered with, his tweet reads. His post has been re-tweeted by Chief Minister Arvind Kejriwal . In his post, Sisodia listed 3 proposals, here they are: