VIJAYCHOWK.COM

NEW DELHI LATEST NEWS

Summer lips: Here are 5 lip colours that are perfect for the season

Summer is here and as you drag out all the summer dresses and shorts from the back of your closet, it is also the time to stack up on your summer make-up. The season is all about bright colours that pop, and hence we believe that your nail paint and lip colours should also be in tune with the sunshine.
Here are our top-five lip colours to add to the fun of the season.
Emma Stone wears a red lip colour during a ceremony in the forecourt of the TCL Chinese theatre in Hollywood, California.
Reds
Nothing screams glamour the way red does and that is why it makes to the top of our lips. Be it on the red carpet or when it comes to street style, red lips never go out of fashion. The colour goes well with formal attires and is also a perfect fit for casual Fridays.

Electric Orange
If you are tired of classic red shades, this might just end up being your new favourite. Electric orange and tangerines were big on the runway this season and they are vibrant and perfect for the summer.

Pinks
If you are not a fan of red or orange, pinks are you best friends. Right from fuchsia to dusty rose, pink lip colours go with pretty much all the outfits and also make your lips pop.

Purple
Purple lips have been big of late. No, we are not talking about the shade that Aishwarya Rai Bachchan received much flak for on the Cannes red carpet. While that shade might not have gone down too well with many, we are talking of a darker tone. The shade looks stunning especially when worn for formal occasions.

Nude
If you are someone who likes subtle shades, nudes are your go-to colours. The colour complements all skin tones and with this, you will also have a chance to play up your eyes.

रेलवे ट्रेनों में AC-2 कोच करेगा बंद , AC-3 बढ़ें गे: फ्लैक्सी फेयर सिस्टम लिया जा सकता है वापस

रेलवे ट्रेनों में AC-2 कोच करेगा बंद , AC-3 बढ़ेंगे: फ्लैक्सी फेयर सिस्टम लिया जा सकता है वापस

नई दिल्ली : नई दिल्ली.रेलवे सभी तरह की ट्रेनों से AC-2 कोच धीरे-धीरे खत्म कर देगा। इनकी जगह AC-3 कोच बढ़ाए जाएंगे। यही नहीं, नॉन-एसी स्लीपर कोच की संख्या घटाकर भी AC-3 कोच बढ़ाए जा सकते हैं। कम रिस्पॉन्स के चलते 143 ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर सिस्टम को भी वापस लिया जा सकता है। इसकी जगह सभी ट्रेनों के बेसिक फेयर में 10 से 15% इजाफा किया जा सकता है।

ट्रेनों में AC-III कोच ही बढ़ेंगे…

– पत्रकार ने रेलवे बोर्ड के आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया कि रेलवे की 13 हजार पैसेंजर ट्रेनों में धीरे-धीरे AC-2 कोच कम होंगे और फिर इन्हें खत्म कर दिया जाएगा। जिन पैसेंजर ट्रेनों में अभी 20 या 22 कोच लगते हैं, उन्हें बढ़ाकर 24 करने का फैसला हुआ है। ऐसी ट्रेनों में जो एक्स्ट्रा कोच बढ़ाए जाएंगे, वो AC-3 के ही रहेंगे।

रेलवे ने क्यों लिया ऐसा फैसला?

– रेलवे के सूत्रों ने एजेंसी को बताया कि AC-3 के कोच से ऑपरेशनल कॉस्ट निकल रही है। जो पैसेंजर ट्रेनें पूरी तरह से AC-3 हैं, उनसे रेलवे को प्रॉफिट भी हो रहा है। रेलवे की अब कोशिश रहेगी कि ट्रेनों में नॉन-एसी स्लीपर कोच भी कम करें और उनकी जगह AC-3 के डिब्बे बढ़ाएं जाएं।

दावा: स्लीपर के 40% यात्री एसी-3 में सफर करना चाहते हैं

– रेलवे का तर्क है कि एसी-2 के लिए उसी समय मांग होती है। जब एसी-3 में जगह नहीं होती।

– स्लीपर में चलने वाले करीब 30-40% यात्री अब एसी-3 का सफर चाहने लगे हैं।

– एसी-2 के मुकाबले एसी-3 में 26 पैसेंजर ज्यादा आएंगे। इससे रेलवे को भीड़ का दबाव कम करने में मदद मिलेगी।

– इससे स्लीपर के पैसेंजर एसी-3 में आएंगे। जिससे रेलवे की कमाई भी बढ़ेगी।

(जल्द ही ट्रेन लेट होने की सूचना SMS पर दी जाएगी)

– मंथली सीजनल टिकट का किराया भी बढ़ाया जा सकता है। जल्दी ही टिकट कैंसल करने के नियमों में भी बदलाव किया जाएगा।

(– ट्रेन लेट होने पर पैसेंजर्स को इसकी जानकारी एसएमएस पर दी जाएगी।)

(– चार दर्जन से अधिक ट्रेनों की पहचान कर उन्हें समय से चलाने, उन्हें अप टू टाइम बनाने को लेकर भी कदम उठाए जाएंगे।)

– रेलवे आगे चलकर स्लीपर कोच की संख्या भी कम कर सकती है।
*******************************
फ्लैक्सी फेयर का क्या होगा?

– राजधानी, शताब्दी, दुरंतो ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर सिस्टम का भी रेलवे रिव्यू कर रहा है। इस सिस्टम को बंद करने और इसके बदले में ऑप्शनल सिस्टम लाने पर सोचा जा रहा है। यह भी सोचा जा रहा है कि सभी ट्रेनों के बेसिक फेयर में 10% से 15% का इजाफा किया जाए। मंथली सीजन टिकटों के रेट भी बढ़ाए जाएं।

क्या है फ्लैक्सी फेयर?

– फ्लैक्सी फेयर यानी कम होती सीटों के साथ बढ़ता किराया। पिछले साल सितंबर में रेलवे ने एविएशन सेक्टर की तर्ज पर इसकी शुरुआत की थी। 163 साल में पहली बार ट्रेनों में ऐसा सिस्टम शुरू हुआ था।

– 54 दुरंतो, 42 राजधानी और 46 शताब्दी एक्सप्रेस में यह लागू किया गया था। बीते दिसंबर में जब फुल AC हमसफर ट्रेन की शुरुआत हुई तो उसमें भी फ्लैक्सी फेयर सिस्टम लागू किया गया। इस तरह अभी कुल 143 ट्रेनों में यह सिस्टम है।

– उदाहरण के तौर पर राजधानी एक्सप्रेस की बात करें तो इसमें हर 10% सीटें बुक होने पर बेसिक फेयर 10% बढ़ता है। 40% सीटें बुक होने तक किराया 10%-10% बढ़ता है। 40% सीटों के बाद किराया डेढ़ गुना ही लगता है।

क्यों फ्लॉप हो रहा है ये सिस्टम?फेस्टिव सीजन में प्रमुख ट्रेनों में 6 हजार बर्थ खाली रहीं।

– प्रीमियम ट्रेनों का सफर महंगा होने से लोग ऑप्शन के तौर पर बसों या एयर ट्रेवल का ऑप्शन चुन रहे हैं। उदहारण के लिए चंडीगढ़ से नई दिल्ली के बीच चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस में पैसेंजर ऑक्यूपेंसी 30% तक कम हो गई है। लोग बस और एयर ट्रेवल प्रिफर कर रहे हैं।

– शताब्दी एक्सप्रेस में 12 कोच होते हैं। एक कोच में 78 सीटें होती हैं। इस हिसाब से एक शताब्दी में करीब 936 सीटें होती हैं। 90 सीटें बुक होने के बाद ही फ्लैक्सी फेयर शुरू हो जाता है।

– रेलवे के मुताबिक, पिछले साल 9 सितंबर से 31 अक्टूबर के बीच राजधानी, दुरंतो और शताब्दी एक्सप्रेस में 5 हजार 871 बर्थ खाली रही थीं। फ्लैक्सी फेयर सिस्टम को ही इसकी वजह माना गया था।

Annual Windergy International Exhibition starts in New Delhi

The Annual Windergy International Conference & Exhibition largest wind power event in India, has started in New Delhi on April 25 till April 27, a meeting point for all members of the wind energy industry and top business executives, technical experts, decision and policy makers, and government to jointly address the key issues faced by the industry today.

Premier exhibiting companies are presenting their cutting-edge technology and innovations that will help solve the industry’s biggest problems and pave the way for a more efficient, effective and sustainable energy future.

Autol Technologies, Beka Lubrications, Bachmann and many others are the main exhibitors of the event.

#RBI governor suggests merging public sector banks

New York, April 25 (IANS) Reserve Bank Governor Urjit Patel says that merging public sector banks and having fewer of them would be better for the sector and also help deal with problem of non-performing assets (NPA).

Do we need so many public sector banks, he asked while delivering the Kotak Family Distinguished Lecture at Columbia University here on Monday. It is better to consolidate them into fewer banks, he said.
Some of these banks can be merged in return for government assistance in taking care of the NPA problem and this would also make them more efficient, he said.

There was already a trend in that direction, according to him.

“The weaker banks are losing market share (and) that is a good thing,” Patel said. “The stronger banks are gaining market share, which is a good thing, particularly the private sector banks. In a way it is working; those who need to shrink are shrinking.”

“Lenders who are stronger are gaining more market share,” he added. “I think there is a nice shift happening and we need to work with that to resolve this.”

The merger of banks would lead to savings through consolidation of bank branches and operations, he said.
Some of the employees could be offered buyouts, he said adding that younger, digital-savvy personnel can be hired to further expand digital banking operations.

Patel also said that divestment in public sector banks would have a positive role for the sector.
“Divestment measures would improve overall banking sector health,” he said.

MCD election 2017: Kejriwal will launch ‘movement’ if exit poll predictions of BJP win come true

After pollsters predicted rout for the Aam Aadmi Party in municipal elections, Delhi chief minister Arvind Kejriwal warned of launching a “movement” if the exit polls forecasting a BJP sweep come true.
Addressing a gathering of poll observers at his residence on Monday — two days before the counting, Kejriwal said AAP workers and elected representatives are ‘connected’ with people on a daily basis and they know the ground reality.
“Agar phir bhi aise result aate hain… agar result kal jaise aate hain to hum eent se eent baja denge (If the final results are same as predicted yesterday (Sunday), will launch a movement,” Kejriwal is heard saying in a video that emerged on social media.

Increase generic drugs at store: Docs to AIIMS

The Resident Doctors’ Association of AIIMS has written to the institute’s administration, highlighting a dire need to increase the number of generic medicines available at its store.In the letter, the association wrote: "Only 230 medicines are available in the store, so we request to increase the numbers of drugs. The agency has written to the AIIMS administration to include 53 most prescribed drugs by AIIMS doctors, but no action has been taken from your side."