Author Archive: vdc

Bullet Train in India – Must know facts

Bullet Train – Some questions and answers :

Qn.1 The Bullet train between Ahmedabad and Mumbai costs same as flight, and also takes same time. Then why spend so much money ? Why not increase number of flights ?

Ans : A flight serves destination to destination. The bullet train will serve 12 stations in between. With 12 stations on the route having high speed connectivity, the entire stretch will develop as an economic corridor. Once the HST is functional, economic zones will come up all along the high speed network. This will create millions of jobs in next 15-20 years.
______________
Qn 2 : Why not take soft loan of ₹88,000 crore for improving health and education rather than fancy bullet trains ?

Ans : The low interest loan is given by any country to promote something which is exclusive to itself- be it its own technology or science or defence. Japan or France will not give you free loans for building hospitals or schools as they don’t gain anything in that scenario. The loan is SPECIFICALLY for Shinkansen technology, not for any other work.
______________
Qn 3 : We will be dependent on them. How will it help us in future ?

Ans. : This is not just the money or construction being done by Japan. We are also getting the technology of HST from Japan. Just like we are self-sufficient in metro today (which was also given to us by Japan), we will become self-reliant in bullet trains 15-20 years down the lane.
______________
Qn 4 : Why Ahmedabad-Mumbai ? Why not other place ?

Ans – As much as you cry foul, you cannot deny the fact that Mumbai-Surat-Bharuch-Vadodara-Anand-Ahmedabad is a massive industrial hub, with these places being economic, trading and financial hubs of western India. The fact that such big industrialised cities are within 500 km makes it (the project) financially feasible. Once successful, 5 more bullet train networks will also come.

Please share and help in busting some misconceptions.

Courtesy: Kshitij Mohan Singh

सरकार जल्द ही बना सकती है स्कूलों की सुरक् षा के लिए प्रद्युम्न गाइडलाइन

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि सरकार स्कूलों में सुरक्षा और संरक्षा के लिए कड़े नियम लागू करेगी। प्रतिनिधिमंडल ने प्रकाश जावड़ेकर को एक ज्ञापन सौंपा। इसमें मांग की गई कि प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच सीबीआइ से कराई जाए। सरकार स्कूलों के लिए सुरक्षा गाइडलाइन बनाए और उसे प्रद्युम्न गाइडलाइन का नाम दे। स्कूलों के लिए रेगुलेटर बनाने, हर स्कूल में पैरेंट्स टीचर एसोसियेशन बनाने और उसका विवरण स्कूल की वेबसाइट पर देने, हर स्कूल का सुरक्षा ऑडिट कराने, प्राइमरी-मिडिल-सीनियर सेकेंडरी स्कूल के लिए अलग टॉयलेट बनाने और प्राइमरी कक्षा के टॉयलेट के बाहर आया की तैनाती करने, स्कूलों में हर जगह सीसीटीवी कैमरे लगाने, बाहरी लोगों का प्रवेश रोकने तथा स्टाफ के लिए अलग टॉयलेट की व्यवस्था करने की मांग की है।

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि उनका मंत्रालय इस मसले पर बड़े कदमों पर कार्य कर रहा है। सोमवार से परिणाम दिखने लगेंगे। सीबीएसई ने सभी स्कूलों को सुरक्षा के कदमों की जानकारी भेजी है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के साथ मिलकर भी कार्य किया जा रहा है। इसके तहत स्कूलों में अधिक महिला कर्मचारी रखने और सुरक्षा के लिए स्कूलों की जवाबदेही, खासकर प्रबंधन को दायरे में लाने के सुझाव पर कार्य किया जाएगा।

LIC GIVES BONUS INFORMATION THROUGH SMS, BEWARE OF FAKE CALLS

भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) के ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी। LIC ने 2016-17 में हर वर्ष की तरह सरकार को 5% और अपने ग्राहकों को 95% प्रतिशत बोनस बांटा है।

*LIC ने पॉलिसीधारकों को रिवर्सनरी बोनस और प्रॉफिट के रूप में 47,387.44 करोड़ रुपए और सरकार को 5% लाभांश के रूप में 2949.08 करोड़ रुपए का भुगतान करने का ऐलान किया है।*
जिनके मोबाइल नंबर पॉलीसी मे दर्ज हैं उन्हे बोनस की जानकारी मैसेज से मिली है जो पॉलीसी की परिपक्वता पर ही मिलेगा।

विशेष अनुरोध है कि आप अपने बोनस मैसेज कि जानकारी से संबंधित कोई भी फोन कॉल
पर इसकी या अपने बैंक खाता, एटीएम पीन, नेट बैंकिंग पीन, आधार नम्बर नही दें।
*वो LIC के नाम का सहारा लेकर फेक कॉल हो सकता है।*

क्या सनकी तानाशाह ने तीसरा विश्व युद्ध छेड़ने की तैयारी कर ली है?

उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग आखिर क्या चाहता है? क्या उसने तीसरा विश्व युद्ध छेड़ने की तैयारी पूरी कर ली है? अमेरिका के भारी दबाव और यूएन प्रतिबंधों के बावजूद किम जोंग ने आज जापान की ओर एक और मिसाइल दाग दी. आखिर तानाशाह पर अमेरिका का दबाव भी काम क्यों नहीं आ रहा है? अंतर्राष्ट्रीय दबावों और संयुक्त राष्ट्र की चेतावनी के बावजूद उ. कोरिया मिसाइलों का परीक्षण करने से बाज नहीं आ रहा है. 3 सितंबर को ही तानाशाह ने हाइड्रोजन बम का परीक्षण कर पूरी दुनिया को भौचक कर दिया था. न अमेरिका उसे रोक पाया और न ही यूएन के प्रतिबंध लगाम कस पाए. किम जोंग पर किसी का दबाव काम नहीं आ रहा. अमेरिका की सारी कोशिशें अब तक तो नाकाम ही नजर आ रही हैं.

क्या है तानाशाह का मंसूबा?

तो क्या तानाशाह ने बड़े युद्ध और तबाही की तैयारी कर ली है? क्योंकि जिस तरह से वह तमाम पाबंदियों और अमेरिका की सख्त चेतावनियों के बावजूद मिसाइल परीक्षण कर रहा है, वह उसके मंसूबे का साफ संकेत है. अगर अमेरिका-उ. कोरिया के बीच जंग छिड़ती है तो चीन भी चुप नहीं रहेगा. इसका संकेत चीनी सरकारी मीडिया के बयानों से मिल चुका है. जंग के हालात बनते हैं तो जापान और दक्षिण कोरिया को भी इसमें उलझना होगा.

परमाणु परीक्षणों से चुनौती

अब तक उत्तर कोरिया 6 परमाणु परीक्षण कर चुका है. 3 अगस्त को ही उ. कोरिया ने पांचवां परमाणु परीक्षण किया था. जापान के उपर उसने छठा परमाणु परीक्षण कर माहौल को और गर्म कर दिया. उसका दावा है कि ये छठा परीक्षण पांचवे परमाणु परीक्षण से 10 गुना ज्यादा था. ये मिसाइल जापान के होकेइडो द्वीप के उपर से गुजरी. आज सुबह 6.57 मिनट पर ये मिसाइल दागी गई. यूएन ने उत्तर कोरिया पर कई बैन लगाए, लेकिन उस पर कोई असर नहीं पड़ा. उसका परमाणु कार्यक्रम बदस्तूर जारी रहा. किम जोंग ने एक के बाद एक धमकियां दीं. अमेरिका को राख में जलाने की धमकी, तो जापान के द्वीप डुबोकर उसे छोटा करने की शेखी बघारी.

अमेरिका ने चीन पर भी दबाव बनाने की कोशिश की है, लेकिन ये भी काम नहीं आया. उसने चीन और रूस से उ. कोरिया को समझाने को कहा, लेकिन इसका असर होता नहीं दिखा. खुद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उ. कोरिया को कड़ी चेतावनी और चीन को नसीहत दे चुके हैं.

चीन-रूस पर अपील बेअसर

अमेरिका ने चीन और रूस से कड़े कदम उठाने को कहा है. उसने कहा है कि चीन से उ. कोरिया को बड़े पैमाने पर तेल की आपूर्ति होती है. रूस में उ. कोरिया से बड़ी संख्या में लोग काम करने पहुंचते हैं. ऐसे में दोनों देशों को सख्त कदम उठाकर उ. कोरिया पर काबू पाना चाहिए. अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कहा कि चीन अपना अधिकतर तेल उत्तर कोरिया को मुहैया करवाता है. रूस उत्तर कोरियाई मजदूरों की बड़ी संख्या में नियुक्ति करता है. चीन और रूस को उस पर प्रत्यक्ष कार्रवाई करते हुए उसके लापरवाही भरे मिसाइल प्रक्षेपणों के खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर करनी चाहिए.

अमेरिका की अपील अब तक असर नहीं दिखा पाई है. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पहले ही कह चुके हैं कि रूस, उ. कोरिया के खिलाफ सख्त कार्रवाई के खिलाफ है. जबकि चीन ने पूरी तरह चुप्पी साध रखी है. उसके सरकारी मीडिया ने जरूर ये धमकी दी है कि अगर अमेरिका उ. कोरिया पर हमले जैसी कार्रवाई करता है तो चीन चुप नहीं रहेगा.

किम जोंग को कहां से मिल रही मदद?

सवाल ये उठ रहा है कि उ. कोरिया को परमाणु परीक्षण करने लायक साधन और सामग्री कहां से मिल रही है. इसके लिए सीधे तौर पर चीन पर ही उंगली उठ रही है. माना जाता है कि अमेरिका और जापान से सीधी भिड़ंत के चलते चीन, उ. कोरिया को भरपूर मदद मुहैया करवाता है. उसने शुरुआत से ही उ. कोरिया को न सिर्फ परमाणु सामग्री दी, बल्कि आर्थिक रूप से भी तानाशाह के देश को संभाला. सबूत तो इस बात के भी मिल चुके हैं कि पाकिस्तान ने उ. कोरिया की मदद से ही अपने परमाणु कार्यक्रम को आगे बढ़ाया. यहां भी चीन ही सीधे तौर पर संदेह की नजरों में आया.

Rs.300 cr Plan for better solid waste management in #Delhi

Minister Shri Hardeep Singh Puri announces the plan for three MCDs @ Rs.100 cr each

549 units of automated equipment and machines to be procured by December this year

Minister of Housing & Urban Affairs Shri Hardeep Singh Puri today announced a Rs.300 cr action plan for a visible improvement in Solid Waste Management in Delhi. Addressing the  ‘Public Affairs Forum of India’ here today, the Minister said this initiative will be supported by the Ministry from the ‘Urban Development Fund’ operated by Delhi Development Authority.

Shri Puri informed that under the Plan, automated machinery, equipment and other systems will be procured for better collection, transport and storage of garbage, decentralized treatment and better maintenance of sewers and drains. Soon after assuming office, Shri Puri raised the issue of garbage problem in the national capital during a discussion on Swachh Bharat Mission (Urban) in the Ministry on the fifth of this month and desired an action plan for improving the situation.

North, South and East Municipal Corporation of Delhi will spend Rs.100 cr each on procuring a total of 549 units of modern equipment. An assistance of Rs.80 cr will be provided to each MCD from the Urban Development Fund. All equipment including treatment plants are to be procured and commissioned by the end of this year.

This initiative will quickly add a waste treatment capacity of 670 metric tons of bio-degradable waste besides preventing release of foul gases, smell and proliferation  of germs, pathogens, pests etc.

S.No Item East South North Total Qty
Qty Qty Qty
 I COLLECTION, STORAGE & TRANSPORT ITEMS  
1 Battery Operated Litter Pickers

( for Market area)

50 50 50 150
2 Auto-mounted Litter Pickers ( 1 per ward) 64 104 104 272
3 Fixed Compactor Transfer Station(Complete Set) 20 0 20 40
4 Underground Bins with compactor 5 0 5 10
5 Mechanical Road Sweeper  (CNG) 7 0 4 11
 II DECENTRALISED TREATMENT PLANTS  
6 Accelerated Composter  (1-Ton Per Day capacity) 10 4 6 20
7 Bio-methanation Plant ( 5-TPD capacity) 2 4 4 10
 III LARGE TREATMENT PLANTS        
8 Bio-Methanation Plant of average 100 TPD capacity 1 4 1 6
 IV SPECIAL VEHICLES FOR  DRAINS & SEWERS        
9 Super Sucker Recycler Machines 2 2 2 6
10 Suction-cum-Jetting Machines 10 0 4 14

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

A

Global Crude oil price of Indian Basket was US$ 54.56 per bbl on 14.09.2017

The international crude oil price of Indian Basket as computed/published today by Petroleum Planning and Analysis Cell (PPAC) under the Ministry of Petroleum and Natural Gas was US$ 54.56 per barrel (bbl) on 14.09.2017. This was higher than the price of US$ 53.83 per bbl on previous publishing day of 13.09.2017.

In rupee terms, the price of Indian Basket increased to Rs. 3495.38 per bbl on 14.09.2017 as compared to Rs. 3443.89 per bbl on 13.09.2017. Rupee closed weaker at Rs. 64.07 per US$ on 14.09.2017 as compared to Rs. 63.98 per US$ on 13.09.2017. The table below gives details in this regard:

Particulars Unit Price on September 14,  2017 (Previous trading day i.e. 13.09.2017)
Crude Oil (Indian Basket) ($/bbl)              54.56           (53.83)
(Rs/bbl)             3495.38        (3443.89)
Exchange Rate (Rs/$)              64.07           (63.98)

 

KM/SA Daily Crude Oil Price       

Aadhaar May be Linked With Driving Licence Soon, Says Ravi Shankar Prasad

New Delhi, Sept 15: The government on Friday said it is planning to link Aadhaar card with driving licence in the country. Union Minister for Law and Justice and Information Technology Ravi Shankar Prasad said the government will soon link Aadhaar cards with driving license. The UID number, popularly known as Aadhaar, was introduced to end fake or multiple identities.

“We linked PAN card to Aadhaar to stop money laundering. We are now planning to link Driving Licence to Aadhaar. I have had a word with Nitin Gadkari regarding this,” said Ravi Shankar Prasad at Digital Haryana Summit 2017. Nitin Gadkari holds the portfolio of Road Transport and Highways Ministry. “So Digital identity confirms physical identity with the help of Digital technology,” Prasad added.

लंदन के अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशन में धमाका, कई लोग घायल, भारी अफरातफरी

लंदन के अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशन में धमाका हुआ है जिमें कई लोग घायल हुए हैं. बताया जा रहा है कि एक कंटेनर में धमाका हुआ है. मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है. यूके मीडिया के मुताबिक, धमाके के तुरंत बाद पुलिस अधिकारी और एंबुलेंस स्टाफ मौके पहुंच गए हैं.

धमाका पार्संस ग्रीस स्टेशन पर हुआ है. धमाके से कई लोगों के चेहरे झुलस गए और यहां भारी अफरातफरी मच गई. मौके पर राहत और बचाव कार्य तेजी से हो रहा है. सोशल मीडिया पर लगातार तस्वीरें आ रही हैं.